अधिक उत्पादन के लिए जुताई, Plough for High Production

Adhik Utpadan ke liye Jutai., अधिक उत्पादन के लिए गर्मी की गहरी जुताई,

यह तीन साल में एक बार की जाती है.सभी खेतों की एक ही बार में गहरी जुताई नहीं करे. टुकड़ो में जुताई करवाए.इसमें खेत की 30 सेमी.तक जुताई करते है. यह अप्रैल- मई में की जाती है.

ज्यादातर फसल उगाने का कार्य जमीन के 15 सेमी गहराई तक किया जाता है, फसल उगाने के लिए एक ही स्तर पर बार -बार जुताई करने से जमीन में एक कठोर परत बन जाती है, जिसके कारण बारिश में पानी जमीन के अन्दर नहीं जा पाता है, और बहकर खेत से बाहर निकल जाता है.गहरी जुताई से यह कठोर परत टूट जाती है व खेत की जमीन पानी का अवशोषण करती है.मिट्टी पलटने से जमीन में रहने बाले कीड़े व रोग (कवक) आदि जमीन के ऊपर आ जाते तो ये पक्षिओ द्वारा खा लिए जाते है, व कुछ तेज सूरज की धूप के कारण नष्ट हो जाते हो. जिससे फसलों के कीड़े व रोग कम लगते है. मिट्टी पलटने से जमीन का कचरा नीचे चला जाता है और अच्छी तरह से सडकर खाद बन जाता है. बाद में फसल की तैयारी के लिए खेत की जुताई भी आसानी से हो जाती है व मिट्टी भुरभुरी हो जाती है. इन सभी के कारण फसल का उत्पादन अधिक प्राप्त होता है.

हाइड्रोलिक पलटी प्लाऊ –यह हाइड्रोलिक सिस्टम से चलने वाला रहता है, जिसके कारण इसे केवल हाइड्रोलिक सिस्टम वाले ट्रेक्टर से ही चला सकते है.इसकी कीमत लगभग 35-40 हजार तक रहती है.इससे जुताई करने पर पूरी जमीन की जुताई होती है खेत में विना जुताई वाली जमीन नहीं रहती है.इसकी लागत 4500 रुपये प्रति हेक्टर रहती है.

सामान्य गहरी जुताई वाला प्लाऊ –इसकी कीमत 20-25 हजार रुपये रहती है.इससे गहरी जुताई करने पर कुछ जमीन विना जुताई के रह जाती है.इसकी जुताई की लागत 3 हजार रुपये प्रति हेक्टर रहती है.इस तरह किसान भाई अपनी सुविधा अनुसार प्लाऊ का इस्तेमाल करके गर्मी की गहरी जुताई कर सकते है.

ज्यादा जानकारी लिए इस लिंक पर क्लिक करके हमारे यूट्यूब -YouTube चैनल डिजिटल खेती –Digital Kheti पर विजिट करे. धन्यवाद

https://www.youtube.com/channel/UC8y4ihEQyARwqQMGbzR4ISA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *