तोरई/गिलकी फसल, चिकनी व धारीवाली तोरई, Cultivation of Torai/ Gilki/ Sponge Gourd and Ridge Gourd.

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है चन्द्र शेखर जोशी और आप सभी किसान भाईयों और ब्लॉग पढ़ने वाले साथियों का स्वागत है हमारी  इस वेवसाईट www.kisanhomecart.com में.

आज इस पोस्ट में हम चर्चा करेंगे तोरई या गिलकी फसल के उत्पादन के बारे में. और इसके बीज की कीमत, बीज दर व उत्पादन से मुनाफा या लाभ के बारे में. इसको इंग्लिश में sponge guard व Ridge Guard भी कहते है क्योकि यह दो तरह की रहती है चिकनी तोरई व धारी वाली तोरई. जिन किसान भाइयो के पास सिंचाई की सुविधा है वो किसान तोरई को गर्मी में उत्पादन कर लाभ कमा सकते है. और बारिश के मौसम में भी लगा सकते है.

हमारी इस वेवसाईट पर हम कृषि से सम्बंधित, फसल उत्पादन, उधानिकी फसल, पशुपालन, कृषि की सरकारी योजनाओं के बारे में पोस्ट या ब्लॉग लिखते है, ताकि किसान भाइयो को खेती के बारे में नई-नई जानकारी मिलती रहे.आप सभी से निवेदन है इस जानकारी को अपने दोस्तों में व्हाट्सअप या फेसबुक पर शेयर जरूर करे. और पोस्ट के नीचे नीले रंग का सब्सक्राइब का बटन है, उस में अपना नाम व मेल आई.डी. लिखकर  क्लिक करके हमारी इस वेवसाईट को सब्सक्राइब जरूर करे, ताकि जब भी हम कृषि के बारे में नई पोस्ट  डाले तो आपको नोटिफिकेशन के द्वारा पोस्ट की जानकारी मिल जाये. और अगर आप कुछ पूछना चाहते है तो पोस्ट के नीचे कमेंट बॉक्स है उसमे अपना कमेंट, नाम एवं मेल आई.डी. लिख कर नीले रंग के पोस्ट कमेंट के बटन पर क्लिक करे.

तोरई के बीज की दर 400 से 600 ग्राम प्रति एकड़ रहती है और बीज की कीमत 4000 से 12000 रुपये प्रति किलोग्राम रहती है. बीज का भाव बीज की गुणवत्ता के अनुसार रहता है, बहुत सारी प्राइवेट कंपनी कलश सीड, बायोसीड, सिंजेंटा, नुन्हेम्स, वी.एन.आर.सीड,अंकुर सीड आदि कंपनी है जो दोनों प्रकार की तोरई का बीज बेचती है. बाजार में बहुत सारी कंपनी का बीज आता है, आप किसी भी कंपनी का बीज खरीद सकते है. यह बीज हाइब्रिड रहता है जिसका उत्पादन अधिक रहता है.

इसकों लगाने के लिए दूरी पौधे से पौधे व लाइन से लाइन अलग अलग रहती है. बारिश के सीजन में दूरी ज्यादा रखते है. व गर्मी में दूरी कम रखी जाती है.1.5 मीटर *1.5 मीटर  या  1.5-2 *1-1.5 मीटर या  1.5-2.5*0.6-1.2  मीटर .

खाद या उर्वरक की मात्रा – 16-24 कि.ग्रा. नाइट्रोजन 12-16 कि.ग्रा. फॉस्फोरस व 12 कि.ग्रा. पोटाश प्रति एकड़. तथा बाद में 10 कि.ग्रा. नाइट्रोजन फूल लगने के समय दिया जाता है. बुवाई का समय – आजकल किसी भी मौसम में तोरई लगाई जा सकती है. गर्मी की बुवाई – जनवरी – फरवरी महीने में. बारिश की बुवाई – जून- जुलाई महीने में की जाती है

इसमें सीधे बुवाई की जाती है ,बीज को मेड नीचे वाले किनारे पर लगा दिया जाता है. वुबाई के 30-35 दिन वाद से फूल आने लगते है एवं 60-75 दिन के फल लगना शुरू हो जाते है. फिर कुछ दिन 4-6 दिन के अंतर पर लगातार फलों तुड़ाई की जाती जाती है. लगभग 2 महीने तक तुड़ाई होती है व उपज प्राप्त की जाती है.

उपज – एक एकड़ में लगभग 8-10 टन या 80-100 क्विंटल या 8000-10000 किलोंग्राम तक तोरई की उपज प्राप्त होती है. अगर 5-10 रुपये प्रति किलों भी बेचते है मंडी में 40-50 हजार रुपये तक आते है. जो सामान्य फसल उत्पादन की तुलना में हमेशा ज्यादा रहते है.गर्मी में तोरई के भाव ज्यादा रहते है व लाभ भी अधिक मिलता है.

ज्यादा जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करके हमारे यूट्यूब चैनल “डिजिटल खेती ” पर विजिट करे. धन्यवाद.

https://www.youtube.com/channel/UC8y4ihEQyARwqQMGbzR4ISA

Cultivation of Torai/ Gilki/ Sponge Gourd and Ridge Gourd.

Hello friends My name is Chandra Shekhar Joshi and welcome to our website www.kisanhomecart.com.

Today in this post we will discuss about the production of Torai or Gilki crop. And about the price of its seed, seed rate and profit of production. It is also called sponge guard and ridge guard in English because it has two types- smooth Torai and striped Torai (Dhari Vali Torai). Farmers who have irrigation facilities, can make the profit by cultivating it in summer. And it can also be planted in the rainy season.

On our website, we write posts or blogs related to agriculture crop production, horticulture crops, animal husbandry, government schemes of agriculture. So that the farmers are getting new information about farming.

All of you are requested to share this information with your friends at WhatsApp or Facebook. And there is a blue subscribe button below the post. Write your name and email id in these boxes and click on this subscribe button. Please subscribe to our website so that you can get notifications whenever we post about agriculture. And if you want to ask something, then there is a  comment box below the post, write  your comment, name and email id and  click on the blue comments button. I will get your message and will reply for it.

The quantity  of tomato seed is 400 to 600 grams per acre and the cost of seed is 4000 to 12000 rupees per kg. The seed price remains in accordance with the quality of the seed. There are so many private companies include Kalash Seed, Biosseed, Syngenta, Nunhems, VNR Seed, Ankur seed etc which sell  seed of Torai. You can buy seeds of any company. This seed remains hybrid, which produces more.

The distance from the plant to plant and line to line is different for planting it. Keep the distance in the rainy season more. And the distance is kept low in summer. Spacing – Plant to Plant & Row to Row-   1.5 meters * 1.5 meters or 1.5-2 * 1-1.5 meters or 1.5-2.5 * 0.6-1.2 meters.

Quantity of fertilizer or fertilizer – Use 16-24 kg Nitrogen, 12-16 kg Phosphorus and 12 kg Potash per acre And at the time of flowering, 10 kg Nitrogen is given.

Sowing Time – Nowadays, it can be grown in any season. Summer Sowing  – in the month of January – February . Sowing of rainy Season or Kharif  – in month of June-July . The sponge guards are sown directly and the seeds are placed on the bottom edge of the ridge.

Flowers begin from 30-35 days after sowing, and fruiting starts 60-75 days after sowing. Then on the difference of 4-6 days, the fruits are harvested continuously. It is harvested roughly for 2 months.

Yield – Yield of it, Approximately 8-10 ton / acre or 80-100 quintals / acres 8000-10000 Kg / acre. If you sell 5-10 rupees per kilo in the mandi, then it comes to 40-50 thousand rupees. Which is always more than normal crop production. The rate of torai is high in summer. The benefits also get more.

For more Information Please visit our YouTube channel ” Digital Kheti” . Thanks.

https://www.youtube.com/channel/UC8y4ihEQyARwqQMGbzR4ISA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *