फूलों की खेती, Cultivation of Flower crops, Foolo ki Kheti.,

फूलों की खेती , Cultivation of Flower Crops.Production of Flower Plants. Fulo Ki kheti, foolo ka utpadan, Phoolo ki kheti, Phoolo ka utpadan,

  • नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है चन्द्र शेखर जोशी और आप सभी किसान भाईयों और ब्लॉग पढ़ने वाले साथियों का स्वागत है हमारी  इस वेवसाईट www.kisanhomecart.com में.
  • आज इस पोस्ट में फूलों की खेती के बारे में जानकारी देंगे.
  • हमारी इस वेवसाईट पर हम कृषि से सम्बंधित पोस्ट या ब्लॉग लिखते है. ताकि किसान भाइयो को खेती के बारे में जानकारी मिलती रहे.
  • सभी किसान भाई और दोस्त इस पोस्ट/ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करे.
  • पोस्ट के नीचे नीले रंग का सब्सक्राइब का बटन है.
  • उसमें अपना नाम व मेल आई.डी. लिखे. और सबमिट के बटन  क्लिक करेंगे तो यह  वेवसाईट को सब्सक्राइब हो जाएगी.
  • हम कृषि के बारे में नई पोस्ट डालेंगे, तो आपको नोटिफिकेशन के द्वारा जानकारी मिल जाएगी.
  • इस जानकारी को व्हाट्सअप या फेसबुक पर शेयर जरूर करे.
  • अगर आप कुछ पूछना चाहते है तो पोस्ट के नीचे कमेंट बॉक्स है उसमे अपना कमेंट, नाम एवं मेल आई.डी. लिख कर नीले रंग के पोस्ट कमेंट के बटन पर क्लिक करे.
  • गुलदाऊदी/सेवंती–
  • इसकी बुवाई – जनवरी फरवरी व जून – जुलाई – अगस्त माह में की जाती है.
  • बीज की मात्रा – आजकल बाजार में हाइब्रिड बीज मिलते है. किसान वहा से खरीद सकते है.
  • इसकी बुवाई के लिए पहले नर्सरी में पौध तैयार की जाती है. इसके बाद पौध की खेत में रोपाई की जाती है.
  • इसको जड़ सकर (root Suckers) व टर्मिनल कटिंग (Turminal Cutting) से भी बुवाई करते है.
  • बुवाई के लिए एक लाख प्रति हेक्टर जड़ सकर या टर्मिनल कटिंग की जरूरत पड़ती है.
  • इसमें विभिन्न रंग के फूल आते है.
  • लगाने की दूरी – 45-50*30 सेमी.
  • खाद व उर्वरक – 10-15 टन गोबर की खाद. और और नाइट्रोजन  125 कि.ग्रा./हे., फॉस्फोरस 120 कि.ग्रा./हे. व पोटाश 25 कि.ग्रा./ हे. दर से उपयोग करते है
  • गेंदा – बुवाई का समय.
  • गर्मी में – जनवरी -फरवरी में लगाते है.         
  • खरीफ/बारिश में – मई – जून में लगाते है.
  • सर्दी/रबी में – सितम्बर – अक्टूबर में लगाते है.
  • बीज की मात्रा – अभी हाइब्रिड बीज आते है. जिसमे में एक बीज की कीमत  एक रुपये से लेकर 1.5 रुपये तक रहती है. और एक हेक्टर में लगभग दस से पंद्रह हजार बीज बुवाई में लगते है. पहले बीजों नर्सरी लगाई जाती है. इसके बाद खेत में पौध की रोपाई की जाती है.
  • बुवाई की दूरी – पौध को 30*30 सेंटीमीटर या 40*40 सेंटीमीटर की दूरी पर लगाते है.
  • खाद एवं उर्वरक – गोबर की खाद – 30 टन/हे., और नाइट्रोजन – 120 कि.ग्रा./हे., फॉस्फोरस 80 कि.ग्रा./हे. व पोटाश 80 कि.ग्रा./हेक्टर की दर से उपयोग करते है.
  • ग्लाडियोलस – बुवाई का समय – यह जुलाई – नवम्बर महीने में लगाई जाती है.  
  • बीज/कंद की मात्रा- इसकी बुवाई के लिए 150000-180000 ( 1.5 से 1.8 लाख ) कंद/हेक्टर की जरूरत रहती है.                   
  • दूरी – इसकी बुवाई में लाइन से लाइन व पौधे से पौधे से की दूरी 30*20 सेमी. रहती है.                                   
  • खाद – इसमें प्रति हेक्टर 20-25 टन गोबर की खाद प्रयोग की जाती है. और नाइट्रोजन – 60 कि.ग्रा./हे., फॉस्फोरस 40 कि.ग्रा./हे. व पोटाश 40 कि.ग्रा./हेक्टर की दर से उपयोग करते है.                                                         
  • इसके फूल विभिन्न रंगों के आते है.
  • Hello guys, my name is Chandra Shekhar Joshi and you all are welcomed to our website www.kisanhomecart.com.
  • Today in this  I will tell you about the production of flowers.
  • On this website, we write posts or blogs related to agriculture. So that the farmers keep getting information about farming.
  • Please all of you must subscribe to this post/website.
  • There is a blue subscribe button below the post. Write your name and mail id in it. Click on submit button. And subscribe to this website.
  • Whenever we will introduce new posts about agriculture, you will get information through notification.
  • And do share this information on Whats App or Facebook.
  •  And if you want to ask something then there is a comment box below the post. Write comment/your question, name and mail id in it. And click on the post comment button of blue color.
  • Chrysanthemum (Guldaudi) – It is sown in January -February and June-July-August Month.
  • The quantity of seed – Now a days hybrid seeds can be purchased from market.
  • It has flowers of different colors
  • Seedlings are prepared in the nursery for the sowing of it first. After this planting is done in the field.
  • It is also sown by root sucker or terminal cuttings. One lakh root suckers or terminal cutting are used for sowing one hactre area.
  • The distance for sowing – 45-50 * 30 cm
  • Compost and fertilizer – 10-15 tons of dung manure. And nitrogen 125 kg/ha, phosphorus 120 kg/ha and potash 25 kg/ha are used.
  • It has different kinds of flowers.
  • Marigold – sowing time- in Summer –  January-February month.
  • Kharif / rainy season – in June / June month.
  • Winter / Rabi – September-October month.
  • Quantity of Seed – Now hybrid seeds are used in sowing of marigold. The price of one seed range from one rupee to one and half rupees (1-1.5 Rs/seed). And in one hectare, about ten to fifteen thousand seeds are sown.
  • First nursery is planted with seeds. After this planting of seedling is done in the field.
  • Sowing distance – Planting is done at the space of 30 * 30 cm or 40 * 40 cm. away.
  • Fertilizers and manure – Farm yard manure /compost – 30 ton/ha. And nitrogen 120 kg/ha, phosphorus 80 kg/ha and potash 80 kg/ha are used for planting.
  • Gladiolus – It is planted in the month of July – November.
  • Quantity of seeds / tubers – 150000-180000 (1.5 to 1.8 lakh) of tubers / hectare are needed for sowing.
  • Distance – The distance from the plant to the plant and line to line is 20 * 30 cm for sowing.
  • Compost and fertilizer – 20-25 tons of dung manure. And nitrogen 60 kg/ha, phosphorus 60 kg/ha. and potash 40 kg/ha are used.
  • It has different kinds of flowers.

For more information Please Click on this Link.Thanks. ज्यादा जानकारी के लिए कृपया इस लिंक पर क्लिक करे.

https://www.youtube.com/channel/UC8y4ihEQyARwqQMGbzR4ISA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *