बीजों पर अनुदान , Subsidy on Seeds Rabi 2018.

बीजों पर सरकार/कृषि विभाग से निर्धारित अनुदान की दर

बीज वितरण अनुदान रुपये/क्विंटल

  • 1. फसल का नाम – गेंहू
  • A. ऊँची जाति/किस्म (10 वर्ष तक की अवधि)
  •      बीज खरीदने पर अनुदान  – 750 रुपये/क्विंटल
  • B. ऊँची जाति/किस्म (10 वर्ष से अधिक अवधि)
  •      बीज खरीदने पर अनुदान  – 100 रुपये/क्विंटल
  • C. बोनी जाति/किस्म (10 वर्ष तक की अवधि)
  •      अनुदान  – 750 रुपये/क्विंटल.
  • D. बोनी जाति/किस्म (10 वर्ष से अधिक अवधि)
  •      अनुदान  – 100 रुपये/क्विंटल.
  • गेहू में अनुदान की राशि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (एन.एफ.एस.एम.) व राष्ट्रिय कृषि विकास योजना (आर.के.वी.वाई.) से किसानों को दी जाती है.
  • 2. फसल का नाम – चना
  • A. जाति/किस्म//वैरायटी – (10 वर्ष तक की अवधि)
  •      बीज खरीदने पर अनुदान  – 1300 रुपये/क्विंटल
  • B. जाति/किस्म//वैरायटी (10 वर्ष से अधिक अवधि)
  •     बीज खरीदने पर अनुदान    – 500 रुपये/क्विंटल
  • 3 फसल का नाम – चना काबुली
  • A. जाति/किस्म//वैरायटी – (10 वर्ष तक की अवधि)
  •      बीज खरीदने पर अनुदान  – 1300 रुपये/क्विंटल
  • B. जाति/किस्म//वैरायटी – (10 वर्ष से अधिक अवधि)
  •      बीज खरीदने पर अनुदान  – 500 रुपये/क्विंटल
  • चना/काबुली चना में अनुदान/छूट की राशि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (एन.एफ.एस.एम.- दलहन ) से किसानों को दी जाएगी.
  • 4 फसल का नाम –  A. मटर (10 वर्ष तक)
  •    बीज खरीदने पर अनुदान  – 2000 रुपये/क्विंटल
  • B. फसल का नाम – मटर ( 10 वर्ष से अधिक )
  •      बीज खरीदने पर अनुदान – 300 रुपये/क्विंटल
  • C. फसल का नाम – मटर अर्किल समस्त किस्मे
  • अनुदान – 00/00 रुपये/क्विंटल
  • कोई अनुदान नहीं है
  • मटर में अनुदान की राशि राष्ट्रिय कृषि विकास योजना (आर.के.वी.वाई.) से किसानों को दी जाएगी.
  • 5. फसल का नाम – A. मसूर (10 वर्ष तक )
  •     अनुदान  – 3200 रुपये/क्विंटल
  • B. फसल का नाम – मसूर (10 वर्ष से अधिक)
  •      अनुदान – 2500 रुपये/क्विंटल
  • मसूर में अनुदान/छूट की राशि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (एन.एफ.एस.एम.- दलहन ) से किसानों को दी जाएगी.
  • 6. फसल का नाम – A. सरसों (15 वर्ष तक)
  •    अनुदान – 3000 रुपये/क्विंटल
  • B. फसल का नाम – सरसों (15 वर्ष से अधिक)
  •      अनुदान – 00/00 रुपये/क्विंटल, यानि अनुदान नहीं है
  • सरसों में अनुदान/छूट की राशि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (एन.एफ.एस.एम.- ओ.एस.ओ.पी.) से किसानों को दी जाएगी.
  • 7. फसल का नाम – A. अलसी (15 वर्ष तक)
  •     अनुदान – 2900 रुपये/क्विंटल
  • B. फसल का नाम – अलसी (15 वर्ष से अधिक)
  •     अनुदान – 00/00 रुपये/क्विंटल, यानि अनुदान नहीं है
  • अलसी में अनुदान/छूट की राशि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (एन.एफ.एस.एम.- ओ.एस.ओ.पी.) से किसानों को दी जाएगी.
  • 8. फसल का नाम –A. जौ (10 वर्ष तक )
  •      अनुदान – 800 रुपये/क्विंटल
  • B. फसल का नाम – जौ (10 वर्ष से अधिक)
  •     अनुदान – 400 रुपये/क्विंटल,
  • जौ में अनुदान/छूट की राशि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (एन.एफ.एस.एम.- सी.सी.) से किसानों को दी जाएगी.
  • 9. फसल का नाम – A. मूंग (10 वर्ष तक)
  •     अनुदान – 3300 रुपये/क्विंटल
  • B. फसल का नाम – मूंग (10 वर्ष से अधिक)
  •     अनुदान – 2500 रुपये/क्विंटल,
  • मूंग में अनुदान/छूट की राशि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (एन.एफ.एस.एम.- दलहन) से किसानों को दी जाएगी.
  • संस्था द्वारा बीज विक्रय दर पर बीज किसानों को बेचा जायेगा.
  • एवं अनुदान की राशि सीधे किसानों के खाते में आयेगी. उदाहरण के लिए गेहू की संस्था की बीज विक्रय दर है 3750 रुपये/क्विंटल तो किसान को 3750 रुपये/क्विंटल के भाव से पूरा पैसा देना है अनुदान 750 रुपये/क्विंटल की दर से किसानों के खाते में आयेगा.
  • इसके लिए किसान अपना आधार नंबर, बैंक खाता, बैंक का आई.ऍफ़.सी.कोड., खाता खसरा आदि जहा से बीज खरीद रहे है उस संस्था सोसाइटी या प्रमाणित बीज विक्रय केंद पर जमा कराये. ताकि अनुदान किसान के खाते में आ सके.
  • ज्यादा जानकारी के लिए अपने जिले के कृषि विभाग या अपने नजदीकि की सोसाइटी में संपर्क करे.
  • तथा किसान अपने नजदीकि की सोसाइटी या सरकारी बीज प्रमाणित संस्था से ही बीज खरीदे.
  • ये अनुदान/छूट मध्यप्रदेश राज्य के लिए है.
  • यह योजना सभी राज्यों में है अत अन्य राज्यों के किसान अपने जिले में कृषि विभाग में संपर्क करे.
  • 10 वर्ष तक की अवधि की किस्म या वैरायटी का मतलब है की यह वैरायटी वैज्ञानिकों द्वारा विकसित करने में अभी से 10 साल से कम समय हुआ हुआ है, अभी 2018 चल रहा है तो ऐसी किस्म वर्ष 2008 में या 2008 के बाद विकसित हुई है. यानि इस किस्म को विकसित हुए 10 साल से कम का समय हुआ है.
  • 10 वर्ष से अधिक अवधि की किस्म या वैरायटी का मतलब है की यह वैरायटी वैज्ञानिकों द्वारा विकसित करने में अभी से 10 साल से अधिक समय हुआ हुआ है, अभी 2018 चल रहा है तो ऐसी किस्म वर्ष 2008 में या 2008 के पहले विकसित हुई है. यानि इस किस्म को विकसित हुए 10 साल से अधिक का समय हो गया है.
  • ऐसा ही 15 वर्ष तक की अवधि  या 15 वर्ष से अधिक अवधि की किस्मों के वारे में समझा जाये.
  • धन्यवाद, 

  • www.kisanhomecart.com

  • ज्यादा जानकारी के लिए यूट्यूब पर खोजे

  • डिजिटल खेती

  • Digital Kheti

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *