Highest Fruiting in Grapes

Highest Fruiting in Grapes.   Bahar control in grapes . Fruiting in Grapes. Jamfal me Bahar niyantran,

Bahar control is done to take high production and high-quality fruits in grape plants. Flowers come three times in grape plants, this is called Bahar.  In grape plants flowers come twice and thrice time in north-east India and in west-south India respectively. So, these flower seasons are called Mrag Bahar, Ambe Bahar and Hast Bahar.

Ambe Bahar – in this season flowers come in February-march month and fruiting comes in rainy season (June-September). Fruit quality of this season is not good and the fruits are less sweet.

Hast Bahar – In is this season flowering occurs in October – November month and fruiting occurs in February-April month. The quality of fruit of this season is good but yield is low.

Mrag Bahar – in this season, flowering occurs in June – July month and fruiting occur in November-January month. The quality & taste of fruits are good and yield of fruits is high in this season. So, in India the fruit of Mrag Bahar season is taken. To take Fruiting of this season, the fruiting of the rainy season crop viz. Ambe Bahar fruiting is avoided. This technique is called Bahar control.

Bahar Control – 1. Remove soil near of roots – in this method, the irrigation is stopped and the soil near of roots is removed in month of April – May. So, the root is exposed to sunlight. Result of it soil moisture is reduced and the leaves of plant are dropped down and the plants become dormant. Now after 20-25 days root is covered with soil and after fertilizing, irrigation is done.

2. Use of Fertilizers – the flowering is also increased by using fertilizers to the plants.

3. By Stopping Irrigation – to take fruits in Mrag Bahar, the irrigation is stopped from February to 15 of May month. Due to this, the leaves drop down and the plants become dormant. In middle of May month, the plant is fertilized and irrigation is done. So, the flowering and fruiting increase in Mrag Bahar.

4. Use of Growth Regulator – in this, growth regulators are used example- NAA – 1000 PPM, Naphthalene acetamide – 50 PPM, 2-4-D – 10-30 PPM and Urea @ 10 % are used as growth regulator to control flowering or Bahar. Growth regulator is used to remove flowers of Bahar. which Bahar flowers are not required, are removed by the use of growth regulators.

5. Removing flowers with hands – Flowers are removed with the hand for Bahar control.  Generally, all the flowers and small fruits are removed at the end of April and at the beginning of May month, so that fruiting in Mrag Bahar can be higher.

6. The grapes plants which has erect branches, bear less fruits. To increase fruit bearing in such types of branches, these branches are tied by the help of rope with the wooden stick (toggle) by bending these branches in the month of April-June. And remove all the small branches, leaves, fruits and flowers except first 10-12 pairs of apex part. Using this method, the fruiting will be higher at these branches. Courtesy – Madhy Bharat Krashak Bharti. 

For more information about agriculture visit our – YouTube channel – Digital Kheti- DIGITAL KHETI. Please Click of this Link-Thanks.

https://www.youtube.com/channel/UC8y4ihEQyARwqQMGbzR4ISA

अमरुद में बहार नियन्त्रण

अमरुद के फलों में ज्यादा उत्पादन एवं अच्छी गुणवत्ता के फलों के उत्पादन के लिए बहार का नियंत्रण किया जाता है.

अमरूद में तीन बार फूल आते है जिनको बहार कहते है.

अमरूद में उत्तरी व पूर्वी भारत में वर्ष में दो बार फलन एवं पश्चिमी व दक्षिणी भारत में वर्ष में तीन बार फलन आता है जिसे मृग बहार, अम्बे बहार एवं हस्त बहार कहते है.

अम्बे बहार – इसमें फरवरी-मार्च माह में फूल आते है इसे अम्बे बहार कहते है इसमें बारिश के मौसम में फल आते है. इस मौसम की फसल के फल कम मीठे होते है एवं इनकी गुणवत्ता भी अच्छी नहीं होती है.

हस्त बहार – इस बहार में अक्टूबर – नवम्बर माह में में फूल आते है एवं फरवरी-अप्रैल में फल आते है, इस मौसम के फलो की गुणवत्ता अच्छी होती है लेकिन उपज कम आती है.  

मृग बहार – इस बहार में जून – जुलाई माह में फूल आते है एवं नवम्बर-जनवरी  में फल आते है. मृग बहार के फलो की गुणवत्ता, स्वाद एवं उपज अच्छी होती है. इसलिए भारत में मृग बहार की उपज ली जाती है. मृग बहार में फूल अधिक लगते है, बड़े आकर के फलों का उत्पादन होता है, फल स्वाद में अधिक मीठे होते है, एवं फलों का उत्पादन ज्यादा आता है. मृग बहार के फलों का उत्पादन लेने के लिए, वर्षा ऋतु वाली फसल यानि अम्बे बहार के फूलों को लगने से रोका जाता है जिसे बहार नियंत्रण कहते है.

बहार नियंत्रण – 1. जड़ो के पास की मृदा को निकालकर – इस विधि में सिंचाई बंद कर दी जाती है तथा जड़ो की आसपास की उपरी मृदा को अप्रेल-मई में खोदकर बाहर निकाल दिया जाता है, जिससे जड़ो को प्रकाश/धूप लगती है, परिणामस्वरुप मृदा में नमी की कमी हो जाती है एवं पत्तिया गिरने लगती है और पेड़ सुसुप्तावस्था में चले जाते है. फिर 20-25 दिन के बाद जड़ो को मिटटी से दुबारा ढक दिया जाता है एवं खाद-उर्वरक डालकर, सिंचाई की जाती है.

2. उर्वरकों का प्रयोग – जून माह में पेड़ो की जड़ो में खाद डालकर भी मृग बहार में फूलों की संख्या बढ़ाते है.

3. सिंचाई रोककर – मृग बहार के फल लेने के लिए फरवरी से 15 मई तक पानी देना बंद कर देना चाहिए, जिससे पत्तिया गिर जाती है एवं पेड़ सुसुप्तावस्था में चले जाते है. इसके बाद मध्य मई में पेड़ो की गुडाई करके उर्वरक डाले व सिंचाई करे जिससे मृग बहार में फूल ज्यादा आते है व फल भी ज्यादा लगते है.

4. वृद्धि नियंत्रकों का प्रयोग (ग्रोथ रेगुलेटर )- इसमें वृद्धि नियंत्रकों का प्रयोग किया जाता है, जैसे एन.ए.ए. -1000 पी.पी.एम, नेप्थिलिन एसिटामाईड – 50 पी.पी.एम., 2-4 डी – 10 – 30 पी.पी.एम. एवं यूरिया -10% आदि का छिडकाव किया जाता है. जिस बहार के फल नहीं चाहिए उस बहार के फूलों के खिलने पर उसे झड़ाने के लिए वृद्धि नियंत्रकों का प्रयोग किया जाता है.

5. फूलों को झड़ाकर – इसमें फूलो को हाथ से झड़ाया जाता है.

सामान्यतया अप्रैल के अंत व मई माह के शुरूआत में आने वाले सभी फूलों एवं छोटे फलो को तोड़ दिया जाता है, इससे मृग बहार में अच्छा फलन आता है.

6. जिस पेड़ की शाखायें सीधी रहती है उन शाखाओ में फलों का उत्पादन कम होता है अत पेड़ की ऐसी सीधी शाखाओ को अप्रैल-जून माह में झुकाकर जमीन में खूंटा आदि गाड़कर रस्सी से बांध दिया जाता है. एवं शाखाओ की शीर्ष की उपरी 10-12 जोड़ी पत्तियो को छोड़कर अन्य छोटी छोटी शाखाओं, पत्तियो, फूलो व फलो को तोड़कर हटा दिया जाता है. इससे इन शाखाओ में फल ज्यादा लगेंगे.

इस तरह बहार नियन्त्रण करने से अमरूद में फल ज्यादा लगते है. खेती के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए विजिट करे हमारा यूट्यूब चैनल – डिजिटल खेती – DIGITAL KHETI—Courtesy- मध्य भारत कृषक भारती

Seed Certification

Seed Certification or Seed  Production

In this high – quality certified seed is prepared for high crop production.

What is seed-

  • It is highly productive.
  • Which is unaltered
  • Which has high germination percentage.
  • Which is genetically pure.

Types of seed-

  • Nucleus Seed
  • Breeder Seed.
  • Foundation Seed.
  • Certified Seed.
  • Hybrid Seed.
  • Truthful level seed (TL)
  • What kind of seed can be produced-
  • Hybrid Seed- this kind of seed can be produced by highly skilled persons or scientists. This can also be produced by the farmers but after a long training and practical experience.
  • Generally Certified and foundation seeds are produced by the farmers.
  • Production of such kind of seeds is very easy to farmers.
  • Mostly self-pollinated crop like wheat, chickpea, soybean, lentil, arhar (Pigeon Pea ) etc.
  • Farmers can produce only seed of notified varieties of these crops.
  • Farmers can search online, notified varieties of different crops.
  • How certified seed can be produced by farmers-
  • Farmers can produce certified seed individually or forming an institutional agency viz.
  • Personnel.
  • Proprietor farm.
  • Farmer Groups
  • Society.
  • Farmer Producer Company.
  • Private company.
  • How seed production is done-
  • Contact agriculture department of own district.
  • Contact Deputy Director Agriculture of Agriculture Department of own District.
  • Or contact seed certification officer of your district.
  • Details of seed certification officer can be found on websites.
  • Each state has his own certification agency website. So, search it online or google.
  • Documents for seed Certification-
  • Khata Khasra (B-I)
  • Photo of farmer
  • Seed license from agriculture department.
  • Agreement letter with seed grader plant. (Mostly each district or nearby district has grading plans so farmers can search details of grading plant of their district on website of state seed certification agency. 
  • Application-
  • Fill the certification application completely
  • Deposit the fee of seed certification which is 800-1500 Rs. /hectare
  • Apply for certification through seed certification officers of your district.
  • Last Date for application-
  • Last date is 30 June to 15 July in case of khar  if crops season.
  • Last date is 30 October to 30 December in case of Rabi Crops.
  • Sometimes date may be changed according the state or crops seasons.
  • Seed Production-
  •  For the certified seed production, purchase foundation seed from the reliable of government agency with bill. If farmers do not know about the agency, they can take help from seed certification officer.
  • The foundation seed selling agency – Krishi vigyan kendre, government agriculture farms, old or already exists societies, state certified seed production agency, national seed corporations etc. can be found in their district.
  • Now sowing of this seed is done as the crop is sown.
  • Inspection-
  • Seed certification officer comes 2-4 times to inspect the crop. He comes before the sowing, at the time of standing crop and at grading of seed.
  • Then he takes sample of seed and send it to testing laboratory for germination test, moisture test and purity test etc.
  • If the produced seed follow the seed certification standard or requirement then certification tag is provided to the seed producers.
  • The producer can pack the seed and can sell it to other farmers or agency.
  • Benefit of Seed Production-
  • Farmers can produce seed easily.
  • This is just like crop production, in this some government rule and regulation have to follow only.
  • Seed is very costly, so reduce the cost of cultivation and to do the business of seed, farmers can do seed production.
  • When farmers are the producers and the consumers as well than why farmers should not grow their own seed. Please Thinks about it.
  • Seed Certification websites of some States-
  • For Madhya Pradesh state-
  • http://mpssca.org/
  • For Rajasthan-
  • http://rssopca.in/
  • For Uttar Pradesh-
  • http://upseedcert.upsdc.gov.in/Index.aspx.
  • For Hariyana-
  • http://hssca.org.in.
  • farmers can search for their on state.
  • for more information see the following video –
  • प्रमाणित बीजों की उपार्जन दर व उत्पादन पर अनुदान, Procurement Rate of Certified Seed
  • https://youtu.be/8-rBlxQE_-g
  • प्रमाणित बीजों पर अनुदान , Seed Subsidy and Rate of Seed-
  • https://youtu.be/Hf1M3u7VOrQ
  • Farmer Producer Company-
  • https://youtu.be/wCGCoPiyK_8
  • License of Fertilizer, Seed & Pesticides-
  • https://youtu.be/O76-B3obmTY

विभिन्न फसलों के मंडी भाव

Mandi Rate of Different Crops.

Mandi-Neemuch-Mandsaur-Indore-Ujjain)

विभिन्न फसलों के मंडी भाव ( रुपये प्रति क्विंटल )

मंडी– नीमच -मंदसौर -इंदौर -उज्जैन

गेंहू (Wheat)– 1900-2240

गेंहू शरबती (Wheat -Sharbati) – 2602-2630

जौ  (Barley)– 1630-1830

मक्का (Maize)– 1300-1560

सोयाबीन  (Soybean) – 2800- 3370

रायडा/सरसों (Mustard) – 3620-3820

ज्वार – (Sorghum) – 1560-1700

अलसी (Linseed) – 3950-4120

तारामीरा (Taramira)– 3900-4000

मूंगफली (Ground Nut) – 2800-4400

चना (Chick Pea) – 3650-4100

उड़द (Black Gram) – 3300-4100

मसूर (Lentil)- 2150-3350

मूंग- (Green Gram ) – 2500-2800

तुवर/अरहर (Pigeon Pea ) – 2500-3320

मैंथी (fenugreek) – 3210-3950

धनिया (Coriander)– 4700-5800

अजवाइन (Ajwain) – 8900-14500

इसबगोल  (Isabgol)– 5800-8720

कलौंजी  (Kalonji)– 7550 – 9350

ग्वार ( Guar )(Cluster Bean)– 3700-4000

तिल्ली/तिल (Til) (Sesamum) –5500-11500

असगंध (Ashwagandha)– 6100-7150

तुलसी  बीज (Tulsi Seed)–5500-10500

लहसुन (Garlic) – 200-1500

लहसुन  सुपर (Garlic Super)– 3000-7200

सुवा (Suva)– 5850-6700

असालिया (Asaliya)– 3600-3900

चिरायता (chirata)– 1300-1400

पोस्ता/खसखस (Posta Seed/Khaskhas/Opium poppy)– 40000-60500

कपास एम.सी.एच. (Cotton-MCH) –3900- 5099

कपास – डी.सी.एच. (Cotton -DCH) – 5150- 5861

डालर चना Dollor Chick pea)– 3000-5510

प्याज (Onion)– 100-500

बटला/मटर (Pea) – 1501-1950

Courtesy- Patrika News

बायो डीजल पम्प

     बायो डीजल का पम्प लगाने के लिए अनुमानित खर्चा/लागत
     बायोडीजल पम्प कीस्थापना

आवश्यक सुविधा/लागत

  • 1. डिस्ट्रीब्यूटरशिप लागत – 2.5 लाख
  •  ( यह राशि कंपनी पेट्रोल पम्प बंद करने के  बाद  वापस नहीं करती है)
  • 2. पाइपलाइन,फीटिंगबोर्ड & लाइटिंग लागत – 3 लाख
  • 3. तेल भण्डारण टैंक – 3 लाख)
  • 4. तेल डालने वाली मशीन (2 मशीन) – 6 लाख
  • 5. सिक्योरिटी राशि – 5 लाख 
  • (जब कंपनी के साथ व्यापार बंद करते है तब वापस की  जाती है)
  • 6. चल लागत – – 15 लाख  
  • (पम्प से बायो डीजल बेचने के लिएटैंकर कंपनी से मगाते है, एक टैंकर बीस हजार लीटर का आता है अत 20000 लीटर का बायोडीजल तेल  का टैंक खरीदने के लिए इस राशि की जरूरत पड़ती है.)
  • इस तरहआवश्यक सुविधायों की कुल लागत – 34 लाख 50 हजार
  • अन्य सुविधाये जो एक पम्प पर होनी चाहिए –
  • 1. वाटर कूलर – 45 हजार
  • 2. कंप्यूटर, इन्टरनेट – 80हजार
  • 3. डी.जी. 10 के.वी.ए.,14 एच.पी  इलेक्ट्रिक जनरेटर.– 1.5 लाख
  • 4. कैनोपी बजट (पम्प के ऊपर छत) – 1.5 लाख
  • 5. जमीन का पक्का फर्श करने का बजट – 1.5 लाख
  • 6. ऑफिस, बाउण्ड्रीवाल व टॉयलेट का बजट – 5.5 लाख
  • 7. अन्य सुविधायो की कुल लागत – 11.25 लाख
  • इस तरह आवश्यक सुविधायों व अन्य सुविधायों की लागत को जोड़कर एक पम्प लगाने की कुल लागत आती है – 45लाख 75 हजार  (दो डीजल तेल डालने वाली मशीन के साथ) 
  • कागजात एवं साधन
  • जमीन –100 * 100 फीट ( रोड पर )
  • जमीन-जमीन के कागजात, डाईवर्जन सहित,
  • फर्म –जी.एस.टी. नंबर व पैन नंबर सहित
  • जो पम्प लगाना चाहता है उसका आधार कार्ड व पैन कार्ड.
  • 2 फोटो
  • बिजली/इलेक्ट्रिक– 3 फेस कनेक्शन.
  • पानी –पर्याप्त
  • पार्टनर है तो – पार्टनरशिप डीड. 
  • लाभ  –
  • इसमें बायोडीजल का एक टैंकर 20 हजार लीटर का आता है जिसका भाव/रेट सामान्य डीजल के भाव से 5 रुपये प्रति लीटर कम रहता है.
  •  यह बायो डीजल 3 रुपये/लीटर, सामान्य डीजल के भाव से कम भाव पर  बेचना पड़ता है,    
  •  अत इसमें 2 रुपये/लीटर की बचत होतीहै 
  • एक टैंकर 20 हजार लीटर बायो डीजल का आता है इसलिए एक टैंकर पर 2 रुपये प्रति लीटर केभाव से 40 हजार की बचत/आमदनी/लाभ  होता है.
  •  अत आमदनी इस पर निर्भर है कि एक दिन या एक महीने में  कितने टैंकर बिकेंगे.
  • बायो डीजल पम्प लगाने से पूर्व पहले एक-दो सामान्य डीजल पम्प व 2-3 बायोडीजल पम्प पर जानकारी जरूर करनी चाहिए.
  •  ताकि आप बायो डीजल पम्प के व्यापार को आप अच्छी तरह समझ सके.
  • या जो पहले से ही सामान्य डीजल वाला पम्प चला रहे है वो भी पहले से स्थापित बायो डीजल पम्प पर जाकर जानकारी जरूर ले
  • कंपनी की जानकारी 
  • बायोडीजल पम्प लगाने वाली कंपनी की जानकारी के लिए ऑनलाइन सर्च करे तो  कंपनी की जानकारी मिल जाएगी.
  •  उनसे बायो डीजल पम्प की विस्तृत जानकारी लेकरउनके द्वारा स्थापित कुछ पम्पों पर भ्रमण करके, निर्णय करे.
  • बायो डीजलका महत्त्व-
  • यह नए जमाने के ईंधन तेल है, जो भविष्य में काफी काफी लोकप्रिय होंगे.
  •  बायो डीजल से प्रदूषण कम होता है.
  •  गाड़ी का एवरेज बढ़ जाता है.
  •  इससे अच्छी पिकअप मिलता है. गाड़ी में सर्विसिंग व  रिपेयरिंग की जरूरत कम होती है.  
  • इंजन कम कम्पन करता है.
  •  ज्यादा जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करे
  • https://youtu.be/gULZMYBUm-w

प्रीमियम राशि कैसे जाने फसल बीमा की

  • फसल बीमा की प्रीमियम राशि,
  •  बीमा की प्रीमियम राशि,
  • Fasal Bima ki Premium Rashi
  •  Premium Amount of crop insurance
  • Crop Insurance -2018-19
सबसे पहले अपने मोबाइल या कम्पूटर पर गूगल या अन्य कोई ब्राउज़र खोले.

 

 

 

इसके बाद ब्राउज़र के सर्चवार में पी.एम.एफ.बी.वाई. (pmfby) टाइप करे. और सबसे नीचे दाई तरफ के तीर के निशान पर क्लिक करे.

 

 

 

 

 

तो इस तरह http://pmfby.gov.in  लिखा हुआ आएगा.  इस पर क्लिक करना है

 

 

 

 और इस तरह प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की वेवसाईट खुल जाएगी. इसमें दुसरे नंबर का जो बटन दिख रहा है जिस पर बीमा प्रीमियम केलकुलेटर (Insurance Premium Calculator) लिखा है, उस पर क्लिक करे.

 

 

 

 

 

 

जैसे ही बीमा प्रीमियम कैलकुलेटर बटन पर क्लिक करेंगे तो इस तरह का आयेगा इसमें से फसल बुवाई का मौसम और बीमा करवाने का साल चुने.
इसमें बुवाई का मौसम रबी व बीमा का वर्ष 2018-19  या  वर्तमान वर्ष चुने . और साइड में स्लाइडर आयेगा इस पर अंगूठा से ऊपर करे और आगे बड़े.

 

 

नीचे जायेंगे तो बीमा की स्कीम आयेगी व उसके बाद राज्य आएगा.

 

 

 

 

स्कीम में प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना चुने व राज्य वाले खाने में अपना स्वयं का राज्य चुने जिस राज्य में आप रहते या खेती करते है.

 

 

 

जिले (District) वाले खाने में अपना जिला लिखे व फसल (Crop) वाले खाने में जिस फसल के लिए बीमा के लिए प्रीमियम की राशि जाननी है उस फसल का नाम चुने.

 

 

 

फसल का नाम व फसल का रकवा लिखे जिसके लिए आपको प्रीमियम की राशि पता करना है. इसमें फसल का रकवा हेक्टर में लिखा जाता है.
इसके बाद केल्कुलेट ( Calculate) वाले पीले बटन पर क्लिक करे.
 पीले रंग के केल्कुलेट बटन पर क्लिक करने से फसल की प्रीमियम राशि आ जाएगी व आपकों फसल की कुल बीमित राशि भी आपको दिखाई देंगी.
एक फसल की प्रीमियम राशि व कुल बीमित राशि मालूम करने के बाद अन्य किसी दूसरी फसल की प्रीमियम राशि जानने के लिए रीसेट ( Reset) वाले बटन पर क्लिक करे. फिर सभी जानकारी भरे व केल्कुलेट बटन पर क्लिक करने से दुवारा प्रीमियम की कुल बीमित राशि आ जाएगी.
अत आप रिसेट द्वारा किसी व फसल के प्रीमियम राशि आसानी से पता कर सकते है.
वेवसाईट की भाषा बदलने के लिए इस वेवसाईट पर ऊपर, दाई तरफ change Language (भाषा चुने ) का आप्शन आएगा उस पर क्लिक करे और अपनी स्वयं की भाषा चुने. 

 

 

 

 

ज्यादा जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करे

https://youtu.be/koqhfMMZbjk

फसल बीमा के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करे –

https://youtu.be/yKpgx7L5en4