Amrit Pani- Organic Fertilizer-Insecticide

Amrit pani – अमृत पानी

अमृत पानी – इसकों बनाना बहुत ही आसान है. जो किसान जैविक खेती करते है वो इसको घर पर बड़ी ही आसानी से बना कर, किसी भी फसल में इस्तेमाल कर सकते है. Amrit Pani – this is fully organic product which can be made at home easily.

इसको बनाने के लिए निम्नलिखित सामग्री की आवश्यकता होती है. It Requires following items to prepare.


  • दस किलोंग्राम ताजा गाय का गोबर. it requires 10 kilogram fresh cow dung. old dung should not use for preparing amrit pani.

एक किलोग्राम बेसन यानि चने का आटा – चने के दानों को चक्की से पिसवाकर या दुकान से सीधे बेसन भी खरीद सकते है. One Kilogram chickpea or gram flour is used. the flour can be purchased from the shop or flour can be prepared with the help of flour mill.

100 ग्राम गुड़ – खाने वाला मीठा गुड़ लिया जाता है, गुड़ की गुणवत्ता की चिंता न करे जितना सस्ता मिले उतना अच्छा है. गुड़ हम सभी जानते है गन्ने के रस से बनाया जाता है. 100 gram is jaggery is taken. Quality may be any because in low quality jaggery , low chemicals are used. So low quality jaggery can be purchased. All we know very well that the jaggery is made by using the juice of sugarcane.

एक लीटर गाय का मूत्र लिया जाता है, गाय के मूत्र को कितना समय भी भण्डारण कर सकते है. One liter Cow urine is taken to prepare this. cow urine can be stored for a longtime. storage improves quality of urine.


एक किलो नीम की हरी पत्ती ली जाती है, जिसकीकुचलकर चटनी बना ली जाती है. One kilogram green leaves are taken of Neem or Azadirachtaa. These leaves are crushed well to make paste of these leaves.

250 ग्राम आक की पत्ती लेते है, इन पत्तियो की भी अच्छी तरह से कुचलकर चटनी बना लेते है. 250 gram Leaves of Aak or madar /Calotropis are taken and these leaves are also crushed to make paste. This paste is used.

10 लीटर साफ पानी लिया जाता है. गन्दा पानी इस्तेमाल न करे. 10 liters clean water is taken. Please do not use dirty water. it will deteriorate the quality of Amrit Pani.

मिट्टी का एक ऐसा पुराना मटका लेते है जो इस्तेमाल नहीं हो रहा हों. मटका फूटा न हो व रिस नहीं रहा हो, ऐसा मटका इस्तेमाल करना चाहिए. One old Mud pot is taken. Post must not be broken or leakaged

अब गोबर का पानी के साथ घोल बनाते है और मटके में डाल देते है. फिर बेसन एवं गुड का घोल बनाते है और उसकों मटके के डालते है. इसके बाद गोमूत्र को मटके में डाल दिया जाता है. इसके बाद नीम व आक की कुचली हुई पत्तियो को भी मटके में डाल दिया जाता है. इसके बाद मटके का मुह कपड़े से अच्छी तरह बांधकर, छाव में रख दिया जाता है,. 8-15 दिन में घोल बनकर तैयार हो जाता है. इसकों छानकर, 200 लीटर पानी में मिलाकर एक एकड़ में इस्तेमाल किया जाता है. First make the solution of dung with water and pour it into the mud pot. then the solution of Jaggery and Flour of gram are made with water and these solution are also poured in mud pot. Now pour the urine of cow into pot. in last drop the paste of leaves of Neem and Aak. Now Pour the water to fill the pot up to it neck. some space is kept blank so the solution could not come out at the time of movement of pot from one place to other. At last the mouth of pot is tied with the clothes tightly. after 8-15 days the solution is ready to use. Sieve this solution with cotton cloth and mix this sieved solution with 200 liters of water and use it for one acre cropped area

इसका स्प्रे भी कर सकते है. और सिंचाई की नाली के पास किसी बर्तन या नल लगे ड्रम में भरकर रखे व नाली के पानी में इसे टपकने दे तो यह पुरे खेत में यह चला जायेगा. ड्रिप के साथ भी इस्तेमाल कर सकते है. यह जैविक खाद व जैविक कीटनाशी दोनों की तरह काम करता है. और इसको किसी भी फसल, सब्जी व फलों के पेड़ो में इस्तेमाल कर सकते है. It can be sprayed or can be used with irrigation canal. the solution is filled into a utensil or drum with tap. Now this is kept near the irrigation channel and a small hole in utensil or by opening the tap of drum let it go with the irrigation water. with the irrigation water it will reach to entire field area.

ज्यादा जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करके आप हमारे यूट्यूब चैनल पर भी विजिट कर सकते है . For more Information Please visit our YouTube channel – Digital Kheti— or Click on this link too.

https://www.youtube.com/channel/UC8y4ihEQyARwqQMGbzR4ISA

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *