कृषि में अनुदान के लिए आवेदन

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है चन्द्र शेखर जोशी और आप सभी किसान भाईयों का स्वागत है हमारी  इस वेवसाईट – www.kisanhomecart.com में.

आज इस पोस्ट में हम चर्चा करेंगे कृषि आदान (कृषि यंत्रो) पर अनुदान लेने के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया के बारे में, ताकि किसान भाई अनुदान या छूट के लिए आसानी से आवेदन कर सके व सरकार की योजनाओं का लाभ ले सके.

हमारी इस वेवसाईट पर हम कृषि से सम्बंधित पोस्ट या ब्लॉग लिखते है. ताकि किसान भाइयो को खेती के बारे में नई-नई जानकारी मिलती रहे.

आप सभी से निवेदन है हमारी इस पोस्ट/ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करे. पोस्ट के नीचे नीले रंग का सबमिट(Submit) का बटन है, उस में अपना नाम व मेल आई.डी. लिखकर आप नीले रंग के सबमिट(Submit) बटन पर क्लिक करेंगे तो वेवसाईट को सब्सक्राइब हो जायेगी और जब भी हम कृषि या कृषि की योजनाओं के बारे में नई पोस्ट डालेंगे, तो आपको नोटिफिकेशन के द्वारा जानकारी मिल जायेगी. इस जानकारी को आप अपने दोस्तों में व्हाट्सअप या फेसबुक पर शेयर जरूर करे.  और अगर आप कुछ पूछना चाहते है तो पोस्ट के नीचे कमेंट बॉक्स है उसमे अपना कमेंट, नाम एवं मेल आई.डी. लिखकर, नीले रंग के पोस्ट कमेंट के बटन पर क्लिक करे.

कृषि विभाग में योजनाओं का लाभ लेने के लिए आवेदन करने के लिए दो वेवसाईट है 1. www.mpdage.org – जब किसान भाई इस वेबसाईट पर क्लिक करेंगे तो उनकों इस वेबसाइट पर सभी योजनाओं की जानकारी मिल जाएगी. और इन योजनाओं पर मिलने वाले अनुदान/छूट के बारे में जानकारी भी मिल जाएगी.

यहाँ पर पहले एक पॉप-अप विंडो खुलती है 1. जिसमे ई-कृषि यंत्र अनुदान (डी.बी.टी.) के निर्देश मिल जायेंगे आप चाहे तो इसपर क्लिक करके इसकों पढ़ सकते है. 2. चूकि अनुदान के लिए आवेदन फिंगरप्रिंट स्कैनर यानि आवेदन के समय स्वयं किसान को आना पड़ता है और उसका अंगूठा लगता है तब आवेदन होता हो. आवेदन करने के लिए डीलर या एम.पी.ऑनलाइन वाले फिंगरप्रिंट स्कैनर खरीद सकते है. 3. तथा यहाँ से ही क्लिक करके सीधे ई कृषि यंत्र अनुदान पोर्टल पर भी जा सकते है.

यह सभी जानकारी पढ़ने के बाद पॉपअप विंडो की बंद कर दे. इसके बाद योजनाओं के अन्तरगत आपकी सभी योजनाओ की जानकारी मिल जाएगी जहा पर आप योजनाओ के बारे में पढ़ सकते है. यहाँ पर कृषि यंत्र प्रदान/सप्लाई करने वाले डीलर की सूची भी आपको मिल जाएगी. तथा कौशल विकास के अन्तरगत जो किसान भाई ट्रेक्टर या कंबाइन हार्वेस्टर की सर्विसिंग, मरम्मत या संचालन की ट्रेनिंग लेना चाहते है उसकी भी जानकारी मिल जाएगी. यह प्रशिक्षण निशुल्क है.

अब एक दूसरी वेबसाईट है www.dbt.mpdage.org केवल इसी वेबसाइट पर किसान भाई यंत्रो पर अनुदान लेने के लिए आवेदन कर सकते है. 1. कृषि यंत्र – कृषि अभियांत्रिकी संचालनालय – इसमें किसान बड़े कृषि यंत्रो के लिए आवेदन कर सकते है – जैसे – ट्रेक्टर, रोटावेटर, थ्रेशर, सीडड्रिल, कंबाइन हार्वेस्टर, ट्रेक्टर माउंटेड स्प्रे पम्प, रेज्ड बेड प्लान्टर  आदि. 2. सिंचाई उपकरण – किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग –इसमें किसान भाई सिंचाई के लिए पाईप, स्प्रिंकर पाईप, ड्रिप, इंजन, मोटर आदि पर अनुदान के लिए आवेदन कर सकते है. 3. माइक्रो सिंचाई/उधानिकी उपकरण – उद्यानिक एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग – इसमें उधानिकी विभाग में मिलने वाले अनुदान के लिए आवेदन कर सकते है. फलो का बग़ीचा, सब्जी बीज, पाली हाउस, प्याज भण्डारण आदि.

महत्पूर्ण नोट – पहले इन वेबसाइट पर आवेदन करने के साथ ही खरीदने के अनुमति मिल जाती थी – मतलब अगर कोई किसान

स्प्रिंकलर पाइप अनुदान पर खरीदना चाहता है तो पहले उसे वेबसाइट पर आवेदन करना रहता है. अगर उसका आवेदन हो जाता है तो वह स्प्रिंकलर पाइप खरीद सकता है और उसकों अनुदान मिल जायेगा.

लेकिन इसमें बहुत दिक्कत आ रही थे पोर्टल महीने में एक या दो बार दो – चार दिन के लिए खुलता था तो आवेदन नहीं हो पाता था. दूसरा केवल जिस दिन पोर्टल खुलता था उसी दिन आवेदन कर सकते थे.

लेकिन अभी इसको ऐसा कर दिया है की किसान 6 नवम्बर 2019 तक आवेदन कर सकते है और 31 अक्टूबर व 7 नवम्बर को लौटरी से नामों का चयन होगा व चयनित किसानो की सूचि पोर्टल पर रहेगी. तथा किसानो को मोबाइल पर भी चयनित होने की जानकारी दी जाएगी. व कृषि विभाग, कृषि अभियांत्रिकी, उधानिकी विभाग के अधिकारी, कर्मचारी भी किसानों को सूचित कर देंगे. इसके बाद किसान भाई जल्दी से जल्दी उस यंत्र आदि को खरीद सकते है जिसके लिए उन्होंने आवेदन किया था.

पहले एक दो दिन पोर्टल खुलने के कारण किसानो के आवेदन हो ही नहीं पाते थे, जिससे किसानो को दिक्कत होती थी. लेकिन अभी पोर्टल लम्बे समय के लिए खुलता है तो यंत्र आदि पर अनुदान का लाभ लेने के लिए किसान भाई आवेदन कर सकते है. जैसे ही उनको खरीदने की अनुमति विभाग या शासन से मिलेगी तब वो उसकी खरीदी कर सकते है जिसके लिय उन्होंने आवेदन किया था.

यह पोर्टल केबल मध्यप्रदेश के किसानो के लिए है तो इस पोर्टल पर केवल मध्यप्रदेश के किसान ही आवेदन कर योजना का लाभ ले सकते है.

लेकिन अभी लगभग सभी राज्यों में यह योजनाये चल रही है तो अन्य राज्यों के किसान अपनी तहसील, विकासखंड या जिले में कृषि या उधानिकी विभाग में संपर्क करके जानकारी ले सकते है.

अगर कुछ दिक्कत आ रही है तो आप कमेंट करके मुझसे भी पूछ सकते है. 

ज्यादा जानकारी के लिए आप हमारे यूट्यूब चैनल डिजिटल खेती — DIGITAL KHETI पर भी विजिट कर सकते है और

PLAY LIST- उसकी प्लेलिस्ट में सरकारी योजनाओ की लिस्ट में आवेदन कैसे करे व किस पर कितनी छूट या अनुदान है उसके बारे में जानकारी ले सकते है. https://www.youtube.com/playlist?list=PL9-YAXqgaGKbFzeLSVOmFDOn2eUPrSN88

कृषि यंत्र केंद्र – कस्टम हायरिंग सेंटर

नमस्कार दोस्तों आप सभी का स्वागत है, हार्दिक अभिनन्दन है हमारी इस वेवसाईट www.kisanhomecart.com में. यहाँ पर हम किसान भाईयों को खेती से सम्बंधित योजनाओं आदि के बारे में जानकारी प्रदान करते है.

आज हम आपकों बताने वाले है कस्टम हायरिंग सेंटर के बारे में –

जो लोग थोड़ा पढ़े लिखे है एवं खेती के साथ गाँव में ही अपना खेती से ही जुड़ा हुआ व्यवसाय करना चाहते है वो लोग गाँव में ही रहकर कस्टम हायरिंग सेंटर स्थापित कर सकते है और स्वयं का रोजगार स्थापित कर सकते है.

इसमें गाँव में खेती में काम आने वाले कृषि यंत्रों का सेंटर स्थापित किया जाता है, जिसमें ट्रेक्टर, ट्राली, थ्रेशर, कल्टीवेटर, प्लाऊ रोटावेटर, हेरों, सीडड्रिल या खेती में काम आने वाले अन्य यंत्र रखे जाते है. और इन कृषि यंत्रो को गाँव के अन्य किसानों कों खेती करने के लिए किराये पर दिया जाता है. जिससे कस्टम हायरिंग सेंटर स्थापित करने वाले को आय प्राप्त होती है व गाँव के अन्य किसानों को आसानी से कृषि यंत्र मिल जाते है.

ऐसे कस्टम हायरिंग सेंटर स्थापित करने के लिए आवेदन आमंत्रित किये जा रहे है.

आवेदन के लिए योग्यता – आवेदक की उम्र 18 वर्ष से लेकर 40 वर्ष के मध्य होनी चाहिये. आवेदक कम से कम 12 वी पास होना चाहिए. कृषि (Agriculture), कृषि अभियांत्रिकी (agriculture engineering) व उधानिकी (Horticulture) से स्नातक (graduate) भी आवेदन कर सकते है. यदि ये लोग आवेदन करते है तो इनको प्राथमिकता दी जाएगी.10 लाख से लेकर 25 लाख की लागत तक का कस्टम हायरिंग सेंटर स्थापित कर सकते है.अनुदान अधिकतम 10 लाख रुपये तक का ही मिलेगा.सामान्य वर्ग के आवेदक को 40% व अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति व महिला आवेदक को 50 % अनुदान मिलेगा.

कृषि यंत्रो की इकाई – कस्टम हायरिंग सेंटर में कृषि यंत्रो की तीन इकाई बनाई गई है जिनमे से इकाई 01 के यंत्र अपने कस्टम हायरिंग सेंटर में रखना अनिवार्य है.

इकाई – 01- ट्रेक्टर , पलाऊ , रोटावेटर, कल्टीवेटर या हेरों, सीडड्रिल, थ्रेशर, रेज्ड बेड प्लान्टर या राइस ट्रांसप्लान्टर.

इकाई – 02 – ग्रेडिंग प्लांट ( बीज के लिए )

इकाई -03 ऐच्छिक कृषि यंत्र – अपनी इच्छा एवं स्थानीय आवश्यकताओ पर आधारित कृषि यंत्र.

आवेदन – आवेदन की तारीख 5 सितम्बर से लेकर 19 सितम्बर 2019 तक है इस अवधि के मध्य आवेदन किये जा सकते है.

आवेदन करने के लिए अ.जा., अ.ज.जा. व महिला आवेदक को दो हजार व सामान्य जातिवर्ग के आवेदक को 5 हजार का ड्राफ्ट बैंक से बनबाना है.

आवेदन mponline (एम.पी.ऑनलाइन ) के माध्यम से करना है.

व 19 से 23 सितम्बर के मध्य आवेदन, बैंक ड्राफ्ट, पहचान पत्र, निवास प्रमाण पत्र या ऋण पुस्तिका, व शेक्षणिक योग्यता की अंकसूची, अपने जिले में कृषि अभियांत्रिकी के कार्यालय में भौतिक सत्यापन कराना है.

मध्य प्रदेश के प्रत्येक जिले में पांच सेंटर स्थापित करना है कुल 255 सेंटर स्थापित करने का लक्ष्य है.

इस तरह से अपने गाँव में कस्टम हायरिंग सेंटर स्थापित कर सकते है.

यह योजना केवल मध्य प्रदेश के लोगो के लिए है. अन्य राज्यों के किसान अपने जिले में कृषि (agriculture) या कृषि अभियांत्रिकी (agriculture Engineering) के कार्यालय में संपर्क कर सकते है. इस तरह की योजना सभी राज्यों में चलती है. आवेदन की तारीख अलग अलग रहती है.

दोस्तों इस जानकारी को आप अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे व आप हमारी इस वेवसाईट को आप सब्सक्राइब भी जरूर करे ताकि आपको खेती के बारे में नई नई जानकारी मिलती रहे.

धन्यवाद

www.kisanhomecart.com

Subsidy on Combine Harvesters, कम्बाईन हार्वेस्टर पर अनुदान- छूट

कम्बाईन हार्वेस्टर खरीदने पर अनुदान/ छूट

इस योजना अन्तर्गत जो किसान कम्बाईन हार्वेस्टर खरीदना चाहते है उन किसानों को कृषि अभियांत्रिकी (Agriculture Engineering ) विभाग द्वारा हार्वेस्टर खरीदने पर अनुदान या छूट दी जा रही है.

जो किसान हार्वेस्टर खरीदना चाहते है वो इस योजना अन्तरगत आवेदन करके योजना का लाभ ले सकते है.हार्वेस्टर फसल कटाई के काम में लिय जाते है – गेंहू सोयाबीन आदि फसले.

हार्वेस्टर पर अनुदान –

  1. कम्बाईन हार्वेस्टर ( स्ट्रा मैनेजमेंट सिस्टम के साथ – भूसा को भी इकठ्ठा करने वाला ) सेल्फ प्रोपेल्ड (स्वचालित ) 14 फीट कटरवार के साथ – इसमें दो प्रकार से अनुदान दिया गया है. A. जो किसान सीमान्त, लघु, महिला किसान है ( किसी भी जातिवर्ग के ) व अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति के किसान है इन सभी किसानों को लागत का 50 % अनुदान दिया जायेगा या अधिकतम राशि 8 लाख 56 हजार तक की छूट या अनुदान दी जाएगी . B. एवं ऊपर दिए गए किसानों के अलावा अन्य वर्ग में आने वाले (सामान्य व अन्य पिछड़ा वर्ग के बड़े किसान) कृषकों को हार्वेस्टर की कुल लागत का 40% तक अनुदान दिया जायेगा या अधिकतम राशि 6 लाख 85 हजार तक की छूट या अनुदान दिया जायेगा.
  • 2. कम्बाईन हार्वेस्टर (ट्रैक टाइप ) ( स्ट्रा मैनेजमेंट सिस्टम के साथ या विना स्ट्रा मैनेजमेंट के – भूसा को भी इकठ्ठा करने वाला या बिना भूसा प्रबंध के) 6-8 फीट कटरवार के साथ –
  • A. जो किसान सीमान्त, लघु, महिला किसान है ( किसी भी जातिवर्ग के ) व अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति वर्ग के किसान है उनकों लागत का 50 % अनुदान दिया जायेगा या
  • अधिकतम राशि 11 लाख तक का छूट या अनुदान दिया जायेगा .
  • B. एवं ऊपर दिए गए किसानों के अलावा अन्य वर्ग में आने वाले (सामान्य व अन्य पिछड़ा वर्ग के बड़े किसान) कृषकों को हार्वेस्टर की कुल लागत का 40% अनुदान दिया जायेगा
  • या अधिकतम राशि 8 लाख 80 हजार तक की छूट या अनुदान दिया जायेगा.
  • 3. कम्बाईन हार्वेस्टर (ट्रैक टाइप ) ( स्ट्रा मैनेजमेंट सिस्टम के साथ – भूसा को भी इकठ्ठा करने वाला ) सेल्फ प्रोपेल्ड (स्वचालित ) 6 फीट कटरवार के साथ –
  • A. जो किसान सीमान्त, लघु, महिला किसान है ( किसी भी जातिवर्ग के ) व अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति किसान है उनकों लागत का 50 % अनुदान दिया जायेगा या
  • अधिकतम राशि 7 लाख तक की छूट या अनुदान दिया जायेगा.
  • B. एवं ऊपर दिए गए किसानों के अलावा अन्य वर्ग में आने वाले (सामान्य व अन्य पिछड़ा वर्ग के बड़े किसान) कृषकों को हार्वेस्टर की कुल लागत का 40% अनुदान दिया जायेगा या
  • या अधिकतम राशि 5 लाख 60 हजार तक की छूट या अनुदान दिया जायेंगा.

इस तरह से तीन प्रकार के हार्वेस्टर पर अनुदान दिया जायेगा – तो जो किसान कम्बाईन हार्वेस्टर खरीदना चाहते है वो किसान आवेदन कर सकते है.

इसके आवेदन ऑनलाइन होंगे तो आपके नजदीकि में जो कम्पूटर किओस्क या सेंटर है उनके द्वारा आवेदन कर सकते है.

आवेदन करने से पूर्व सामान्य श्रेणी के किसानों को 1 लाख रुपये का व अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति के किसानों को 50 हजार का डिमांड ड्राफ्ट (डी.डी.) बैंक से बनबाना है. और डिमांड ड्राफ्ट का विवरण व स्कैन कॉपी आवेदन के साथ लगानी है. इसके लिए आवेदन 5 अगस्त 2019 से लेकर 19 अगस्त 2019 है. यानि आवेदन की  अंतिम तारीख 19 अगस्त है.

आवेदन के बाद आवेदन की कॉपी व डिमांड ड्राफ्ट अपने जिले में सहायक कृषि यंत्री कार्यालय में जमा कराना होगा. एक जिले में कुल चार हार्वेस्टर तक देने की सीमा है. आवेदन एम.पी. ऑनलाइन (mp online) में माध्यम से होंगे. डिमांड ड्राफ्ट संचालक कृषि अभियांत्रिकी भोपाल के नाम बनवाना है. यह योजना केवल मध्यप्रदेश के किसानों के लिए है.

डिटेल में जानकारी वेवसाईट – www.mpdage.org से भी ले सकते है. ज्यादा जानकारी के अपने जिले में कृषि विभाग या कृषि अभियांत्रिकी के कार्यालय में संपर्क करे.

कृषि या खेती बाड़ी के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करे –

https://www.youtube.com/channel/UC8y4ihEQyARwqQMGbzR4ISA

Udhaniki ki Yojnao par Anudan, Subsidy on Horticulture Schemes.,

www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
WWW.KISANHOMECART.COM
WWW.KISANHOMECART.COM
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com
www.kisanhomecart.com

For more information Please click on this Link.—

https://www.youtube.com/channel/UC8y4ihEQyARwqQMGbzR4ISA

Click on this Link.—

https://youtu.be/lu03jI_iGTc

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है चन्द्र शेखर जोशी और आप सभी किसान भाईयों और ब्लॉग पढ़ने वाले साथियों का स्वागत है हमारी  इस वेवसाईट www.kisanhomecart.com में.

हमारी इस वेवसाईट पर हम कृषि से सम्बंधित, फसल उत्पादन, उधानिकी फसल, पशुपालन, कृषि की सरकारी योजनाओं के बारे में पोस्ट या ब्लॉग लिखते है. ताकि किसान भाइयो को खेती के बारे में नई-नई जानकारी मिलती रहे.

आप सभी किसान भाईयों और दोस्तों से निवेदन है हमारी इस पोस्ट/ब्लॉग को सब्सक्राइब जरूर करे व इस जानकारी को अपने दोस्तों में व्हाट्सअप या फेसबुक पर शेयर जरूर करे. और पोस्ट के नीचे नीले रंग का सब्सक्राइब का बटन है, उस में अपना नाम व मेल आई.डी. लिखकर  क्लिक करके हमारी इस वेवसाईट को सब्सक्राइब जरूर करे, ताकि जब भी हम कृषि की तकनिकी या कृषि की योजनाओं के बारे में नई पोस्ट डाले तो आपको नोटिफिकेशन के द्वारा इसकी जानकारी मिल जाये. और अगर आप कुछ पूछना चाहते है तो पोस्ट के नीचे कमेंट बॉक्स है उसमे अपना कमेंट, नाम एवं मेल आई.डी. लिख कर नीले रंग के पोस्ट कमेंट के बटन पर क्लिक करे

कृषि में किसान पुरस्कार

  1. कृषि में किसान पुरस्कार

किसान पुरुस्कार – जो किसान खेती व खेती में अच्छा कार्य करता है उस किसान को प्रोत्साहित करने के लिए पुरुस्कार दिया जाता है.

  1. पुरुस्कार देने वाली संस्था- यह पुरुस्कार किसानो को एग्रीकल्चर टेक्नोलॉजी मैनेजमेंट एजेंसी (आत्मा), कृषि विभाग दयारा दिया जाता है. यह पुरुस्कार उन किसानो को दिया जाता है जो खेती में ज्यादा उपज लेते है, खेती में नया तरीका इस्तेमाल करते है, जैविक खेती में लाभ कमाते  हो या पशुपालन, मुर्गीपालन आदि में अच्छा व्यवसाय कर रहें हो . तथा कृषि या अन्य विभागों दयारा किये गए किसान प्रशिक्षण व भ्रमण आदि में भाग लेते हो.
    3. ये पुरूस्कार निम्न क्षेत्रो में दिया जाया है,
    -कृषि में अच्छा कार्य करने पर
    -उधानिकी में अच्छा कार्य करने पर
    -पशुपालन में अच्छा कार्य करने पर
    -रेशमपालन में अच्छा कार्य करने पर
    -मछली पालन में अच्छा कार्य करने पर
    -व अन्य में अच्छा कार्य करने पर
  2. आवेदन-
  3. पुरूस्कार के लिए आवेदन आत्मा, कृषि विभाग के कार्यालय में मिलता है. किसान पुरूस्कार के आवेदन आपको आपके राज्य की  कृषि विभाग की वेबसाईट पर भी आसानी से मिल जायेंगे जहा से आप इसको डाउनलोड कर सकते है व इसको पूरी तरह  भरकर आत्मा/कृषि/पशुपालन/रेशम्पालन/मछलीपालन आदि के कार्यालय में जमा करा सकते है.

इसको भरकर नियत समय में कार्यालय में जमा करना रहता है.
आवेदन के साथ फसल के फोटो, खाद बीज दवाई के बिल व प्रशिक्षण/भ्रमण, मिट्टी परिक्षण आदि के प्रमाणपत्र की फोटो कॉपी लगाये.

इसमें जिस क्षेत्र में किसान ने अच्छा कार्य किया हो उसका आवेदन कर सकते है. सभी  क्षेत्रो में आवेदन करने के आवेदन अलग प्रकार के रहते है इसलिए किसान ने जिस क्षेत्र में अच्छा कार्य किया हो उसमे ही आवेदन करे. किसान चाहे तो एक से अधिक क्षेत्रो में भी आवेदन कर सकते है.

एक जिले में जितने भी ब्लॉक है, प्रत्येक ब्लॉक/पंचायत समिति में 5 क्षेत्रो में कुल पांच पुरुस्कार दिए जाते है.
पांच पुरुस्कार जिले स्तर पर दिया जाते है.

ब्लॉक स्तर पर किसान पुरुस्कार की राशी प्रत्येक किसान को 10000 रुपये रहती है
व जिले स्तर पर पुरुस्कार की राशी प्रत्येक किसान को 25000 रुपये रहती है.

आत्मा परियोजना (कृषि विभाग) सभी राज्यों व यूनियन टेरीटरी में चल रही है
अत सभी जगह हर साल किसान पुरुस्कार दिए जाते है.

जो लोग आवेदन करना चाहते है वो लोग आत्मा परियोजना के कार्यालय में जाकर संपर्क करे व पुरूस्कार के लिए आवेदन करे.
पुरूस्कार के लिए आवेदन सितम्बर से अक्टूबर तक होते है.