Fast Technique for Organic Fertilizer Production.

Steps for Organic Fertilizer Production:

  • Size of vermicompost unit is 7*3*1 cubic feet. In this the length of unit is 7 feet, width is 3 feet and height is 1 foot. Please do not make vermi unit of more height. Height may be kept 1, 1.5 and 2 feet only. One feet height is best. Farmers may construct units of different sizes as per their requirement. One unit of above given size is sufficient for one 0.4 Hectare (One Acre)

  • Vermicompost unit is constructed with bricks and cement. Plaster is done to all sides or walls- inside, outside and floor. One side of floor of unit is kept lower. At this corner a pipe is inserted to collect vermi-wash.
  • Farmers can make the vermicompost unit with plastic sheet. Or plastic vermicompost unit can be purchased online or from agriculture input shop at the cost of Rs. 2-3 thousand per unit. But this unit is not durable. Its durability is only for 2-3 years.
  • 15-30 days old dung of cow or buffaloes is filled in vermicompost unit. Fresh dung should not use for vermicomposting. The unit is filled up to 45 cm or 0.75 feet. Unit is not filled fully; some place from upper side should be left unfilled.
  • Water is sprayed over the dung after filling the unit. Wet the dung sufficiently that water should not come out from the dung.
  • Now the hut is made over the vermicompost unit. This hut must cover entire unit. The sunlight must not come on dung at any time of the day. Its height should be kept like that a person should bow while entering into the unit.
  • Wait for 4-5 days to cold the dung thoroughly. After this the earthworms are put in the unit. At one side of unit a shallow pit is made and in this pit the earthworms are spread on the dung and wait for some time (5-10 minutes). After some time, the earthworm go inside the dung and the pit is covered with a very thin layer of dung. Or the earthworms can be spread on the dung at one side of unit and wait for some time. This must be done in early morning or in the evening.
  • The entire dung is covered with the bags of jute after putting earthworm in the unit and little water is spread over the dung.
  • After 4 – 7 days the vermicomposting can be seen. The composting will start, it can be seen uncovering or removing the jute bag from the dung at one side.
  •  The vermicompost is ready in 45 days. It can be used in field directly or can be stored in bags for next crops.

  • When vermicompost is ready, make the heap of compost and wait for some time the earthworms will go inside, now take the compost and keep it at other side, again make the heap and wait for some time, the earthworms will go inside than remove the compost. Follow this method to separate the compost from the earthworms. Or compost can be separated by sieving.
  • At last the maximum vermicompost can get  separated from the earthworm. And the small heap of earthworms and vermicompost remain.
  •  Now fill the unit again as given above and put the mixture of earthworms and compost into the dung of the unit. So, the vermicomposting will happen continuously.
    • 1.5 to 2 kg. earthworms are sufficient for the one unit.
    • So, like this farmer can make the vermicompost easily.
    • N:P:K ratio is 1.25 – 2.25% : 1.5-2.5% : 1-2%
    • 2 MT vermicompost is sufficient for one acre with other organic components.
  • Thanks.

For more information about agriculture,

Please visit our YouTube channel – Digital Kheti. https://www.youtube.com/channel/UC8y4ihEQyARwqQMGbzR4ISA

Organic Khad Production Through Earthworms, High Potential Organic Khad, Organic Khad, Organic Manure, Organic Fertilizers, Organic Rich vermicompost, Vermicompost Organic Fertilizer, NPK Nutrients Rich Organic Fertilizer, Vermicompost Production Technique, Technology of Vermicompost Production, Earthworms Rearing for Organic Fertilizer,  Fast Technique for Organic Fertilizer Production, Kenchua Khad Utpadan Ki Takniki, Kenchua Khad, Vermicompost, Organic Manure by Earthworms, Organic Vermicompost, Jaivik vermicompost, Kenchua dwara Jaivik Khad Utpadan, ,

High Quality Vermi-Compost, Organic Rich vermi-compost, केंचुआ खाद उत्पादन तकनीकि.

वर्मी कम्पोस्ट, केंचुआ का खाद, केंचुआ खाद, केंचुआ द्वारा जैविक खाद का उत्पादन, जैविक केंचुआ खाद, जैविक वर्मी कम्पोस्ट. जैविक खाद उत्पादन तकनीकि,   Vermi-Compost, Organic Manure by Earthworms, Organic Vermi-Compost, Organic Khad production through Earthworms, High potential Organic Khad, Organic Khad, Organic Manure, Organic Fertilizers, Organic Rich vermicompost,

केंचुआ द्वारा जैविक खाद निम्नलिखित स्टेप द्वारा बनाया जाता है.

  •  वर्मी किट या वर्मी कम्पोस्ट यूनिट का साइज़ 7*3*1 फीट रहता है. इसमें वर्मी यूनिट या खड्डे की लम्बाई 7 फीट, चौड़ाई 3 फीट व ऊँचाई 1 रहती. ज्यादा ऊंचाई के वर्मी यूनिट न बनाये.
  • वर्मी यूनिट जमीन के ऊपर पक्की सीमेंट व ईंटो से बनाई जाती है. तथा यूनिट की ढलान वाली एक साइड में छेद रखके उसमे पाइप लगा दिया जाता है ताकि वर्मी वॉश इकठ्ठा कर सके. किसान भाई चाहे तो अन्य साइज़ के यूनिट भी बना सकते है.
  • किसान भाई मजबूत प्लास्टिक की शीट से भी वर्मी यूनिट बना सकते है.
  • आजकल बाजार में प्लास्टिक की वर्मी किट 2-3 हजार रुपये में कृषि की दुकानों या ऑनलाइन मिल जाती है लेकिन यह टिकाऊ या ज्यादा दिन तक नहीं चलती है. केवल 2-3 साल ही चलती है.
  • वर्मी यूनिट को 15 से 30 दिन पुराने गोबर से भरा जाता है. पशु द्वारा तुरन्त किये गोबर का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. वर्मी यूनिट को थोड़ा खाली छोड़ देना चाहिए पूरा ऊपर तक नहीं भरते है. एक फुट ऊँचाई के वर्मी यूनिट में 45 से.मी. (3/4 फीट) तक ही गोबर भरना चाहिए.  
  • गोबर भरने के बाद गोबर के ऊपर पानी छिड़का जाता है. गोबर को इतना गीला करते है की इसमें से पानी बाहर न निकले.
  • पानी छिड़कने के 4-5 दिन बाद जब गोबर पूरी तरह ठण्डा हो जाता है तो उसमे केंचुए छोड़े जाते है. वर्मी यूनिट में एक साइड में गोबर में एक छोटा सा गड्डा करते है और केंचुआ को वहा बिखेर देते है और थोड़ी देर इन्तजार करते है सभी केंचुए थोड़ी देर में गोबर में घुस जाते है गड्डे को थोड़े से गोबर से ढक देते है.
  • गोबर में केंचुआ डालने के बाद गोबर को जूट के बोरों से ढक दिया जाता है. और गोबर के ऊपर थोड़ा पानी छिड़क देते है.
  • गोबर में केंचुआ डालने के तुरंत बाद या पहले पूरी वर्मी यूनिट दे ऊपर छाव की जाती है. वर्मी यूनिट के चारों तरफ खम्बा गाड़कर उसके ऊपर फूस वगेरह से छान छाई जाती है.
  • पूरे दिन में कभी भी वर्मी यूनिट के ऊपर धूप नहीं आनी चाहिए. छान या टटिया के ऊंचाई इतनी रखे की किसान वर्मी यूनिट में थोड़ा झुककर घुसे.
  • 4-5 दिन बाद बोरा को उठा कर देखेंगे तो खाद बनता हुआ दिखाई देंगा.
  • 45 दिन में खाद पूरी तरह बनकर तैयार हो जाता है. इसके सीधे खेत में इस्तेमाल करे या बोरों में भरकर अगली फसल के लिए रख दे.
  • खाद बनने के बाद खाद के ढेर बनाये,उसकों थोड़ी देर छोड़ दे केंचुए नीचे चले जायेंगे अब ऊपर से खाद को निकालकर अलग रखे. इसी तरह फिर ढेर बनाये थोड़ी देर इंतेजार करे केंचुए को नीचे जाने दे फिर ऊपर से खाद को अलग कर ले इसी क्रिया को दोहराते रहे. अंत में केवल खाद का ढेर अलग रहता है और थोड़ा खाद व केंचुए का ढेर बचता  है.
  • वर्मी यूनिट को ऊपर बताये अनुसार दुबारा भरे व खाद व केंचुए के मिक्स ढेर को गोबर में छोड़ दे दुबारा खाद बनाना शुरू हो जायेगा.
  • खाद बनने के बाद यूनिट को गोबर से भरते रहे. तो लगातार खाद बनता रहेगा.
  • इस तरह से किसान भाई आसानी से खाद बना सकते है.

ज्यादा जानकरी के लिए कृपया इस वीडियो को जरूर देखे .

धन्यवाद

Package of Practice -Organic Farming,.

Hello friends My name is Chandra Shekhar Joshi and you all are warmly welcomed at our website www.kisanhomecart.com.

Friends, today we will talk about another new technology in agriculture. Or in other words it is the technology which is needed in today’s time. Friends today we will talk about Zero budget natural farming.

Today we are going to tell you about Jeevamrit, Ghanjeevamrit. Waste Decomposer, Cow Urine, Ten Leaves Extract Insecticide, Dhoopvatti of Dung, Organic inter-cropping, and various organic crops. I hope you will keep your cooperation and affection by subscribing to this website and sharing this post.

Jeevamrit – This is sprayed on crops. Or put it in the irrigation water channel and spread in the entire farm. It is used 2-10 times or more in the crops. It is used according to the period of the crop. At a time 200 liters of Jeevamrit is used in one acre. It works as a fertilizer in the crop and decompose the organic substances present in the soil and Make its nutrients available to the crops. It remains in liquid form.

Ghanjeevamrit – It is also used as manure in the crop. It remains in solid form. It is used twice in the crop- Once 7 days before sowing of the crop, and second time 20 days after planting/sowing of crop. At one time, its 100 kilograms/acre quantity is used.

Waste Decomposer – Its solution is used for spraying or with irrigation water. It is used 2-10 times or more in crops. It is used according to the period of the crops.

It can be used alone or in alternate of Jeevamrit. Such as one time Waste Decomposer is sprayed and next jeevamrit is used and in next spray again waste decomposer is used, this cycle is followed. It is also used in rotting dung and crop residues etc. Its 200 liters solution is used in one acre at one time. Sometimes a mixture of half quantity of water and half quantity of waste decomposer is also used. Jeevamrit and West Decomposers are used every 15-20 days interval.

Ten Leaves Extract Organic Insecticide – It is made using 10 types of leaves. Through this, all kinds of insects are controlled in the crop. Its usage rate is 200-750 ml./pump accordingly. The quantity of use depends on crop duration and growth of the crop.

Cow urine – It is used in making Ghanjeevamrit and Jeevamrit. And the cow urine can be used alone too. It works as both insecticides and fertilizers.

Dung incense or Dung Dhoopvatti – Cow dung and urine are also used to make incense of worship.

Inter-cropping – This is the inter-cropping of wheat and pea. It has been inter-cropped organically. In this, wheat  has been sown on the  ridge and peas sown in between the ridge, Now pea has been harvested and sold. In this way farmers can earn good returns in less time by organic inter-cropping.

Organic Crops – These are Wheat, gram and potatoes which had grown in organic manner. In all these quality is very good. And the taste is also great in food. Sujata Wheat – Its yield is low. Because it is a grown in less number of irrigation. But this is sold in the market at a rate of 3500-5000 Rs./100 Kg. People grow Sujata and Banshi wheat in organic farming due to its high protein content.

Garlic cultivation – this has also been grown in organic way. In this field, almost 50% of the crop used to dry up, but nowvthe crop is very good by using the Jeevamrit. And the production will also be good. jeevamrit has been used with irrigation water.

Friends Click on this link to get information about how to make all these – Jeevamrit, Ghanjeevamrit. Waste Decomposer, Ten Leaves Extract Insecticide. I Hope that the farmer brothers will make  them all and will use them in their farms.

  1. Ghan Jeevamrit , Organic Insecticide and Othershttps://youtu.be/RRi-fo27nwo
  2. Jeevamrithttps://youtu.be/vNhKjD6PPME….
  3. Waste Decomposer –..https://youtu.be/umHRq6Jf7DM…
  4. Youtube Channel Linkhttps://www.youtube.com/channel/UC8y4ihEQyARwqQMGbzR4ISA

If you have any questions related to it or any other kind about farming then you can ask by writing in the comment box below this post.

Hope all of you friends have subscribed to this website, thanks for sharing the post too.

Keep Loving. Thanks

कृषि कार्यमाला-जैविक खेती,

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है चन्द्र शेखर जोशी और आप सभी का हार्दिक स्वागत है हमारी इस वेबसाईट www.kisanhomecart.com में.

दोस्तों आज बात करेंगे कृषि की एक और नई तकनीकि के बारे में. या यह तकनीकि आज के समय की जरूरत है. दोस्तों आज हम बात करेंगे जीरो बजट प्राकृतिक खेती के बारे में. घन जीवामृत, जीवामृत, वेस्ट दी कम्पोजर, गो मूत्र, दशपर्णी कीटनाशी, गोबर की धूपवत्ती, जैविक अंतरवर्ती फसल और विभिन्न जैविक फसले इन सभी के वारे में आज बात करेंगे. मुझे आशा है आप की हमारी इस वेबसाइट को सब्सक्राइब करके और इस पोस्ट को शेयर करके अपना सहयोग व स्नेह बनाये रखेंगे.  

जीवामृत – इसको फसलों पर स्प्रे किया जाता है. या सिंचाई की नाली के साथ पानी में डालकर पूरे खेत में डाला जाता है. इसका उपयोग फसल में 2-10 बार या इससे भी अधिक बार किया जाता है. फसल की अवधि के अनुसार इसका उपयोग किया जाता है. एक बार में 200 लीटर जीवामृत एक एकड़ में उपयोग किया जाता है. यह फसल में खाद का काम करता है व भूमि में उपस्थित जैविक पदार्थों को सडाता है. और उसमे उपस्थित पोषक तत्वों को पौधों को उपलब्ध कराता है. यह तरल रूप में रहता है.

घन जीवामृत- यह भी फसल में खाद के रूप में इस्तेमाल किया जाता है. यह ठोस रूप में रहता है. इसका उपयोग फसल में दो बार किया जाता है. एक बार फसल बोने से 7 दिन पहले व दूसरी बार फसल बोने के 20 दिन बाद. एक बार में इसकी 100 किलोग्राम मात्रा एक एकड़ में प्रयोग की जाती है.

वेस्ट डी कम्पोजर – इस घोल का उपयोग स्प्रे करने या सिंचाई के पानी के साथ किया जाता है. इसकों फसल में 2-10 बार या इससे अधिक बार प्रयोग किया जाता है . फसल की अवधि के अनुसार इसका उपयोग किया जाता है.

इसको अकेले या जीवामृत के साथ अल्टरनेट भी उपयोग कर सकते है. जैसे एक बार वेस्ट डी कम्पोजर का व एक बार जीवामृत का उपयोग. इसका उपयोग गोबर व कूड़े करकट आदि को सड़ाने में भी किया जाता है. इसका 200 लीटर का घोल एक एकड़ में एक बार में इस्तेमाल किया जाता है. कभी कभी एक पम्प में आधा पानी व आधा वेस्ट डी कम्पोजर मिलाकर भी उपयोग किया जाता है. जीवामृत व वेस्ट डी कम्पोजर का उपयोग हर 15-20 दिन के बाद किया जाता है.

दशपर्णी जैविक कीटनाशी – इसको  10 तरह की पत्तियों का उपयोग करके बनाया जाता है. इसके द्वारा फसल में सभी प्रकार के कीड़ो का नियंत्रण किया जाता है. इसके उपयोग करने की दर 200-750 मिली. प्रति पम्प के हिसाब से रहती है. प्रयोग करने की मात्रा फसल की अवधि व फैलाव के अनुसार रहती है

गोमूत्र – इसका उपयोग घन जीवामृत व जीवामृत बनाने में किया जाता है. व केवल गोमूत्र का उपयोग भी कर सकते है. यह कीटनाशी व खाद दोनों के रूप में फसल में काम करता है.

गोबर की धूपवत्ती- गोबर व गोमूत्र का उपयोग करके गाय के गोबर से पूजा के लिए धूपवत्ती भी बनाई जाती है.

इंटरक्रोपिंग – यह गेंहू व मटर की इंटरक्रोपिंग की है. इसमें जैविक तरीके से इंटर क्रोपिंग की गई है. इसमें मेड बनाकर गेहू की बुवाई की गई है व बीच में मटर लगाई गई थी जिसकों तोड़कर बेच दिया है. इस तरह से इन्टर क्रोपिंग से कम समय में किसान अच्छा लाभ कमा सकते  है.  

जैविक फसल – यह जैविक तरीके से उगाया गया गेंहू, चना व आलू है . जिसमे सभी की गुणवत्ता बहुत ही अच्छी है. और खाने में स्वाद भी बहुत बढ़िया है. सुजाता गेंहू – इसकी उपज कम रहती है. क्योकि यह कम पानी में उगने वाली किस्म है. लेकिन यह गेंहू बाजार में 3500 से 5000 रुपये पर क्विंटल के हिसाब से बिकता है.


लहसुन की खेती – इसको भी जैविक तरीके से उगाया गया है. इस खेत में पहले लगभग 50 % फसल सूख जाती थी लेकिन अभी जीवामृत के उपयोग से फसल बहुत ही अच्छी है. व उत्पादन भी अच्छा होगा. इसमें सिंचाई के पानी के साथ जीवामृत का उपयोग किया गया है.

दोस्तों इन सभी – घनजीवामृत, जीवामृत, वेस्ट डी कम्पोजर, व दशपर्णी कीटनाशी को बनाने की जानकारी प्राप्त करने के लिए इस लिंक पर क्लिक करे.

  1. https://youtu.be/RRi-fo27nwo. ( घनजीवामृत व अन्य)
  2. https://youtu.be/vNhKjD6PPME. (जीवामृत )
  3. https://youtu.be/KSK_d7dJ020. ( वेस्ट डी कम्पोजर )
  4. https://www.youtube.com/channel/UC8y4ihEQyARwqQMGbzR4ISA……(यूट्यूब चैनल लिंक )

आशा है की किसान भाई इन सभी को बनाकर अपनी खेती में जरूर इस्तेमाल करेंगे. अगर आप कुछ पूछना चाहते है या आपका इससे सम्बंधित या या अन्य किसी भी तरह का खेती से सम्बंधित प्रश्न है तो इस पोस्ट के नीचे कंमेंट बॉक्स है उसमे लिखाकर आप अपना सवाल पूछ सकते है.

आशा है दोस्तों आप सभी ने हमारी इस वेबसाईट को सब्सक्राइब कर दिया होगा, पोस्ट को शेयर करने के लिए धन्यवाद. प्यार और स्नेह बनाये रखे -धन्यवाद.

कम्पोस्ट खाद, आर्गेनिक खाद, कम्पोस्ट उर्वरक, Compost Khad, Organic Manure, Compost Manure,

कम्पोस्टिंग, Composting , फसल अवशेष से कम्पोस्ट खाद बनाना, Composting with Crop/Plant Residue, फसल के कचरे/बायोमास से कम्पोस्ट  खाद बनाना, Composting with Plant/Crop Debris or Biomass, कम्पोस्ट खाद, आर्गेनिक खाद, कम्पोस्ट उर्वरक, Compost Khad, Organic Manure, Compost Manure

इसको तैयार करने के लिए आपको निम्नलिखित सामग्री की जरूरत पड़ेंगी. It needs following items to prepare. फसल के अवशेष – 1400 – 1500 किलोग्राम. Crop Residue – 1400 – 1500 Kilogram. पशु का गोबर – 100 – 150 किलोग्राम. Animal Dung – 100 – 150 Kilogram. मिट्टी – 1500 – 1600  किलोग्राम. Soil – 1500 – 1600 kilogram पानी – 1500 – 2000 लीटर ( आठ से दस ड्रम ), Water – 1500 – 2000 Litres (or 8-10 Drums)

अब इसके लिय जमीन के ऊपर एक टांका बनाने की जरूरत रहती है जिसे पिट, या नाडेप टांका भी कहते है. A Tanka or pit is made on the ground. This is called pit or Nadep Tanka. जिसका साइज़/आकार 12 * 5 * 3 घन फीट रहता है.यानि जिसकी लम्बाई 12 फीट,  चौड़ाई 5 फीट, व ऊंचाई 3 फीट रहती है. इसकी दीवारों में 6-7 इंच के छेद रहते है. छेद एक के ऊपर एक नहीं होने चाहिए. The size of this pit is 12 * 5 * 3 cubic feet. In this the length   the width and the height of the pit are 12, 5 and 3 feet respectively. The holes are kept in the walls of pit. The holes are made in such a manner that these must not be in one line from above to down 

पिट को भरने के लिय सबसे पहले फसल के अवशेषों के छोटे- छोटे लगभग 3-4 इंच के टुकड़े कर लिए जाते है.इसके बाद गोबर व पानी घोल बनाकर उस घोल से पिट के फर्श व दीवारों को अच्छी तरह भिगाकर तर कर देते है. Now the mixture of water and dung is sprayed over the walls of the pit thoroughly with the bucket and mug.

अब पिट के फर्श के ऊपर बायोमास या फसल के अवशेषों को बिछाकर 6 इंच मोटी एक समान परत बनाते है.अब इसके बाद 10-15 किलों गोबर को 100-150 लीटर पानी में घोलकर, अवशेष की परत के ऊपर प्लास्टिक के मग्गे आदि से छिड़कते है एवं पूरी परत को गीला करते है.अब इस अवशेषों की परत के ऊपर पानी व गोबर का घोल डालने के बाद, 100-150 किलोग्राम मिटटी लेकर इसके ऊपर  एक सामान रूप से फैलाते है. व थोड़ा गोबर पानी का घोल डाले. Now uniform layer of 6 inch of the chaffed residues of crop is made in the pit. After this the mixture of 10-15 Kg. dung and 100-150 litres of water is made and poured over the layer of residues. After this well sieved field soil up to 100-150 kilogram is taken and spread uniformly upon the wet layer of residues. Pour some mixture of dung and water again.

इस तरह से फसल अवशेष, गोबर व पानी का घोल व मिट्टी के परत से तीन परत बन जाती है.अब इसी क्रम में तीनो की परत बनाते जाते है.और इस पिट को परत के ऊपर परत बनाकर पिट की दीवार के किनारों से 2-2.5 फीट ऊपर तक  भरते है. So, three layers of crop residue, mixture of dung and water and soil are made. Now these layers are repeated as above and the pit is filled up to 2 – 2.5 feet above the edge of the pit. अब मिट्टी, गोबर व पानी का गाड़ा घोल बनाया जाता है व इस पिट को ऊपर से मिट्टी व गोबर के गाड़े घोल से अच्छी तरह से लेप दिया जाता है.After this paste is made of soil and dung with the water. And now this heap is covered with this paste completely.

15-20 दिन के बाद यह ढेर थोड़ा 1-2 फीट तक नीचे दब जाता है. अब दुबारा इसके ऊपर परत बनाई जाती है व दुबारा पिट को मिटटी व गोबर से लेप दिया जाता है. इस तरह से पूरी तरह से पिट को भरने के लिए 8-10 परत बिछाई जाती है. After 15-20 days the heap gets down so again the layers are made of residue, mixture of dung and water and soil. And the heap is pasted again.8-10 layers are made for to fill the pit completely.

इस तरह 3.5 से 4 महीने में खाद पूरी तरीके से बनकर तैयार हो जाता है व किसान इसकों खेत में इस्तेमाल कर सकते है. इस बिधि से एक साल में तीन बार खाद बना सकते है. और लगभग 80 क्विंटल खाद बनाकर तैयार हो जाता है. So, the compost is ready within 3.5 to 4 months. Now it can be used in crops. In this composting method the compost can be made 3 times within a year. 80 quintal compost is produced in one year.

कम्पोस्टिंग की इस विधि एक साल में लगभग 80 किलोग्राम जैविक नाइट्रोजन,  80 किलोग्राम जैविक फास्फोरस व 80 किलोग्राम जैविक पोटाश पैदा की जाती है. जिसकी कीमत लगभग 7200 रुपये रहती हो जो डी.ए.पी. की चार बोरी , यूरिया की दो बोरी व पोटाश की 3 बोरी के बराबर है. So approx.  80-kilogram organic nitrogen, 80-kilogram organic phosphorus and 80-kilogram organic potash are produced within a year in this method of composting.If we convert this into DAP, Urea and murate of Potash then total cost of the compost will be 7200 Rs. Or 4 bags of DAP, 2 Bags of Urea and 3 bags of Potash.

चने की फसल की उर्वरक अनुशंषा है , नाइट्रोजन – 20 कि.ग्रा. फास्फोरस – 40 कि.ग्रा. व पोटाश 20 कि.ग्रा. रहती है, तो कम्पोस्टिंग की इस विधि से तैयार यह मात्रा चने के दो हेक्टर में इस्तेमाल की जा सकती है. The recommended dose for Chickpea (gram) is 20 Kg. nitrogen, 40 Kg. phosphorus and 20 Kg. Potash, so quantity produce by this composting method can be use in 2 hectares of gram Crop.

सावधानिया – पुरे पिट को एक ही दिन में भरे. ताजा गोबर का इस्तेमाल करे. ढेर में 40-50% तक नमी बनाये रखे.हो सके तो पिट पर छाव रखे. Precautions-Fill the pit same day only. Use fresh dung. And if possible, make shed upon the pit.

ज्यादा जानकरी के लिए हमारा यूट्यूब चैनल —डिजिटल खेती —-Digital Kheti ——–की इस लिंक पर क्लिक करके, विजिट करे. धन्यवाद

https://www.youtube.com/channel/UC8y4ihEQyARwqQMGbzR4ISA

Amrit Pani- Organic Fertilizer-Insecticide

Amrit pani – अमृत पानी

अमृत पानी – इसकों बनाना बहुत ही आसान है. जो किसान जैविक खेती करते है वो इसको घर पर बड़ी ही आसानी से बना कर, किसी भी फसल में इस्तेमाल कर सकते है. Amrit Pani – this is fully organic product which can be made at home easily.

इसको बनाने के लिए निम्नलिखित सामग्री की आवश्यकता होती है. It Requires following items to prepare.


  • दस किलोंग्राम ताजा गाय का गोबर. it requires 10 kilogram fresh cow dung. old dung should not use for preparing amrit pani.

एक किलोग्राम बेसन यानि चने का आटा – चने के दानों को चक्की से पिसवाकर या दुकान से सीधे बेसन भी खरीद सकते है. One Kilogram chickpea or gram flour is used. the flour can be purchased from the shop or flour can be prepared with the help of flour mill.

100 ग्राम गुड़ – खाने वाला मीठा गुड़ लिया जाता है, गुड़ की गुणवत्ता की चिंता न करे जितना सस्ता मिले उतना अच्छा है. गुड़ हम सभी जानते है गन्ने के रस से बनाया जाता है. 100 gram is jaggery is taken. Quality may be any because in low quality jaggery , low chemicals are used. So low quality jaggery can be purchased. All we know very well that the jaggery is made by using the juice of sugarcane.

एक लीटर गाय का मूत्र लिया जाता है, गाय के मूत्र को कितना समय भी भण्डारण कर सकते है. One liter Cow urine is taken to prepare this. cow urine can be stored for a longtime. storage improves quality of urine.


एक किलो नीम की हरी पत्ती ली जाती है, जिसकीकुचलकर चटनी बना ली जाती है. One kilogram green leaves are taken of Neem or Azadirachtaa. These leaves are crushed well to make paste of these leaves.

250 ग्राम आक की पत्ती लेते है, इन पत्तियो की भी अच्छी तरह से कुचलकर चटनी बना लेते है. 250 gram Leaves of Aak or madar /Calotropis are taken and these leaves are also crushed to make paste. This paste is used.

10 लीटर साफ पानी लिया जाता है. गन्दा पानी इस्तेमाल न करे. 10 liters clean water is taken. Please do not use dirty water. it will deteriorate the quality of Amrit Pani.

मिट्टी का एक ऐसा पुराना मटका लेते है जो इस्तेमाल नहीं हो रहा हों. मटका फूटा न हो व रिस नहीं रहा हो, ऐसा मटका इस्तेमाल करना चाहिए. One old Mud pot is taken. Post must not be broken or leakaged

अब गोबर का पानी के साथ घोल बनाते है और मटके में डाल देते है. फिर बेसन एवं गुड का घोल बनाते है और उसकों मटके के डालते है. इसके बाद गोमूत्र को मटके में डाल दिया जाता है. इसके बाद नीम व आक की कुचली हुई पत्तियो को भी मटके में डाल दिया जाता है. इसके बाद मटके का मुह कपड़े से अच्छी तरह बांधकर, छाव में रख दिया जाता है,. 8-15 दिन में घोल बनकर तैयार हो जाता है. इसकों छानकर, 200 लीटर पानी में मिलाकर एक एकड़ में इस्तेमाल किया जाता है. First make the solution of dung with water and pour it into the mud pot. then the solution of Jaggery and Flour of gram are made with water and these solution are also poured in mud pot. Now pour the urine of cow into pot. in last drop the paste of leaves of Neem and Aak. Now Pour the water to fill the pot up to it neck. some space is kept blank so the solution could not come out at the time of movement of pot from one place to other. At last the mouth of pot is tied with the clothes tightly. after 8-15 days the solution is ready to use. Sieve this solution with cotton cloth and mix this sieved solution with 200 liters of water and use it for one acre cropped area

इसका स्प्रे भी कर सकते है. और सिंचाई की नाली के पास किसी बर्तन या नल लगे ड्रम में भरकर रखे व नाली के पानी में इसे टपकने दे तो यह पुरे खेत में यह चला जायेगा. ड्रिप के साथ भी इस्तेमाल कर सकते है. यह जैविक खाद व जैविक कीटनाशी दोनों की तरह काम करता है. और इसको किसी भी फसल, सब्जी व फलों के पेड़ो में इस्तेमाल कर सकते है. It can be sprayed or can be used with irrigation canal. the solution is filled into a utensil or drum with tap. Now this is kept near the irrigation channel and a small hole in utensil or by opening the tap of drum let it go with the irrigation water. with the irrigation water it will reach to entire field area.

ज्यादा जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करके आप हमारे यूट्यूब चैनल पर भी विजिट कर सकते है . For more Information Please visit our YouTube channel – Digital Kheti— or Click on this link too.

https://www.youtube.com/channel/UC8y4ihEQyARwqQMGbzR4ISA

Organic Farming Just in 20 rupees only

Zero Budget Natural Farming
Organic Farming in 20 rupees only for whole life 
 Zero Budget Natural Farming Just in 20 rupees  for whole life 
  • Today we are going to tell you about a miracle product of government of India, which is made by National Centre of Organic Farming, Ghaziabad, India, by the help of  which farmer can do organic farming for whole life at just Zero Cost.
  • This product comes in a small bottle in just 20 Rs. /Bottle
  • Today we are going to tell you how to purchase and use it.
  • Procedure for preparing solution
  • Take 200 litres water in a plastic drum.
  • Mix 2 Kilogram gud (jaggery).
  • Now mix the solution of Waste Decomposer bottle in this water.
  • Mix this solution thoroughly with the help of wooden stick.
  • Leave this solution for 4-5 days.
  • Mix the solution daily just for 5 minutes in morning and evening.
  • after 4-5 days this solution is ready for use in crops.
  • From this ready solution take 20 litres to make another 200 litres solution.
Method of Composting
  • Spread 1000 Kg. animal dung or crop residual mixture on a polythene in shade of plant or in covered shade.
  • Spray 20 litres of ready waste decomposer solution which is made by above given method.
  • Now spread second layer of same quantity dung, on the first one and spray 20 litres of waste decomposer solution on it.
  • This procedure is followed up to 10 layers and on each layer, solution is sprayed.
  • Maintain the moisture in the dung layers heap.
  • After every seven days interval mix the dung layers in each other thoroughly.
  • After one-month decomposed manure is ready to use.
  • This approach can be used directly in dung pit too.
  • How to use
  • 200 litres solution is filled in drum and by the use of tap, it is mixed in running irrigation water.
  • Or pot filled with solution is kept near the irrigation channel and the solution drop down in running irrigation channel.  
  • Entire 200 litre solution goes to one-acre crop area with the irrigation water.
  • It can be used with drip irrigation.
  • it can be used in standing crops as spray.
  • Repeat the spray after 10 days interval.
  • 4-7 spray can be done as per the crop duration.
  • spray the 200 litres solution in one acre.
  • 1000-1200 litres of solution is used in one-acre crop.
   Purchase only one time.
  • The cost of one bottle is only 20 rupees.
  • Farmers need one or two bottles only.
  • First make solution on 200 litres with one bottle.
  • And take 20 litres solution from this ready solution and mix it with another fresh 200 litres water and mix 2 Kg. gud (jaggery). The solution is ready within five days.
  • Same procedure is followed each time.
  • So only one bottle is sufficient for whole time.
Purchase from Here-
  • National Centre for Organic Farming
  • Ghaziabad (P.) India.
  • Phone Number – 0120-2764212
  • 0120-2764901
  • E-mail- nbdc@nic.in
  • Website- ncof.dacnet.nic.in.
  • 09990068268
  • For Karnataka, Kerala, Tamilnadu, Pondicherry, and Lakshdweep.
  • Regional Director
  • Regional Centre for Organic Farming.
  • Kadugudi- Bengaluru (Karnataka)
  • 080-28450503.
  • E-mail-biofkk06@nic.in,
  • rcofbgl@gmail.com.
  • 09999224970
  • For Orissa, Andman & Nicobar
  • Regional Director
  • Regional Centre for Organic Farming
  • Bhubaneshwar, (Orissa).
  • 0674-2721281
  • E-mail-biofor04@nic.in.
  • 08628838759
  • For – Haryana, Himachal Pradesh, Punjab and Jammu & Kashmir.
  • Regional Director
  • Regional Centre for Organic Farming.
  • Kisan Bhavan, Sector-14 PanchKula (Haryana)
  • 0172-2564460.
  • E-mail-biofhr05@nic.in.
  • 09818284410
  • For Assam, Arunachal Pradesh, Meghalaya, Mizoram, Manipur, Nagaland, Tripura and Sikkim
  • Regional Director
  • Regional Centre for Organic Farming
  •  Lamphelpat – Imphal (Manipur)
  • 0385-2413239
  • E-mail-biofmm01@nic.in.
  • 09402600575
  •  For- Bihar, Eastern Uttar Pradesh and West Bengal
  • Regional Director 
  •   Regional Centre for Organic Farming.
      ICAR- Walmi Complex, Phulwari sharif, Jamipur Road,
                   Patna (Bihar)
  • For- Madhya Pradesh, Chhattisgarh, Jharkhand.
  • Regional Director
  • Regional Centre for Organic Farming Jabalpur (Madhya Pradesh)
  • 0761-2904320
  • biofmp06@nic.in
  • 09893562707
  • For Maharashtra, Gujrat, Andhra Pradesh, Goa Daman & Diu, Dadra and Nagar Haveli
  • Regional Director
  • Regional Centre for Organic Farming.
  • Post –Wadi, Kalmeshwer Nagpur, (Maharashtra)
  • 07118-297054.
  • E-mail- recofnagpur@gmail.com,
  • biofmh10@nic.in.
  • 07011403122
  • 09463391879
  • For – Uttar Pradesh, Uttarakhand, Delhi & Rajasthan
  • Regional Centre for Organic Farming
  • Ghaziabad (P.) India.
  • Phone Number – 0120-2764212
  • 0120-2764901
  • E-mail- nbdc@nic.in
  • Website- ncof.dacnet.nic.in.
  • 09990068268
  • Preparation of solution and use of this product is very easy and feasible.
  • On above given centre farmers can call and bring the bottle by courier sending postal order or money order.
  • It can be used in any crop.
  • It is fully Organic.
  • Farmers can purchase bottle of waste demcomposer from —Amazon— and —Flipkart— online shopping website.
  • It is easily available on these websites.
  • For more information visit our —-YouTube Channel —
  • —-Digital Kheti —–
  • Result of Waste Decomposer in Animal Dung..
  • Click on link—
  • https://youtu.be/P1koOPdp8yM

 

 

वर्मी किट, केंचुआ खाद बनाने की किट

वर्मी किट, केंचुआ खाद बनाने की किट

इसका साइज़ 12*4*1 घनफीट रहता है. 12 फीट लम्बा, 4 फीट चौड़ा व 1 फीट ऊँचा रहता है.इसको जमीन पर लगाने के लिए पॉकेट रहते है, इसके लिए जमीन पर लकड़ी के खूटे गाड़े व इन पॉकेट में लकड़ी लगाकर कर इसको जमीन पर स्थापित करे. फिर इस पर अच्छी तरह से छाव करे.

फिर इसमें लगभग पंद्रह से बीस दिन पुराना गोबर भरे, व इस गोबर पर डब्बे  से छिड़क छिड़क कर पानी डाले व पूरे गोबर को अच्छी तरह गीला कर दे इतना पानी डाले कि पानी गोबर से होकर वहना नहीं चाहिए. गोबर पर लगातार 5-6 दिन तक पानी छिड़कते रहे, फिर गोबर में उंगली डालकर देखे गोबर ठण्डा हो गया हो तो केंचुए डाले.

अब इस में एक साइड में छोटा सा गड्डा खोदकर एक किलों केंचुए डाले. व इनके ऊपर गोबर की हलकी परत से ढकदे. ये केंचुए खाद बनाते हुए पूरी गोबर में फ़ैल जायेंगे व 45 से 60 दिन में खाद तैयार हो जायेगा. इस तरह से साल में लगभग 6 बार केंचुए की खाद बना सकते है, जो एक एकड़ के लिए पर्याप्त है. खाद बनाते समय गोबर पर पानी छिड़कते है रहे ताकि गोबर में नमी रहे व केंचुए अच्छी तरह काम करे व खाद बनाते रहे.

  • खाद का निकलना या केंचुए को खाद से अलग करना-
  • इसके लिए बने हुए केंचुए की खाद का ढेर बनाये इसके कुछ समय 2-3 मिनट  प्रतीक्षा करे, केंचुए नीचे चले जायेंगे फिर ऊपर से खाद को हटा कर बोरों में भरले, ढेर बनाये इन्तेजार करे खाद को हटाये ऊपर से , फिर ढेर बनाये इन्तेजार करे फिर खाद को हटाये, अंत में नीचे थोड़े से गोबर के साथ केचुए रह जायेंगे कुछ. इनको बापस से किट में गोबर भरकर उसमे डाल दे इस तरह लगातार खाद बनता रहेगा. चाहे तो लम्बे या मोटे छेद का छानने वाला छन्ना भी इस्तेमाल कर सकते है, व धीरे धीरे छाने ताकि केंचुए मरे नहीं. इस किट से एकबार में लगभग 5-7 क्विंटल तक खाद तैयार हो जायेगा .
  • इस किट की कीमत लगभग 1650 रुपये/किट है, इसको आप ऑनलाइन  या फेसबुक पर भी ढूंढ सकते है, आपको आसानी से मिल जायेगा.
  • एक किट लगभग 3-5 साल तक चल जाती है.
  • सावधानी – पानी लगातार छिड़कते रहे. छाव जरूर रखे. खाद तैयार होते ही दुबारा गोबर डालकर केंचुए डाले ताकि खाद लगातार बनता रहे.
  • एक साल में एक किलों केंचुए लगभग 10 किलों हो जायेंगे. तो केंचुए को दूसरे किसानों को भी 300-500 रुपये प्रति किलों के भाव से बेच सकते है.
  • केंचुए आपको अपने जिले के कृषि विज्ञान केंद्र पर आसानी से मिल जायेंगे.
  • केंचुए भी फेसबुक पर सर्च कर सकते है, आपके नजदीकि ही आपको मिल जायेंगे.
  • ज्यादा जानकारी के लिए हमारे यूट्यूब चैनल
  •   —-डिजिटल खेती —–Digital Kheti—–  को देखे
  • केंचुए खाद के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए ये विडियो देखे लिंक पर क्लिक करे.
  • https://youtu.be/HAcNv47zAgA

20 रुपये में जैविक खेती

  • 20 रुपये में आप कर सकते है जिंदगीभर जैविक खेती

  जैविक खेती

  • आज हम आपको एक ऐसे प्रोडक्ट के बारे में बता रहे है जिसका इस्तेमाल करके आप शून्य बजट में जिंदगी भर जैविक खेती कर सकते है.
  • Waste Decomposer
  • वेस्ट डीकम्पोजर
  • यह एक छोटी सी बोतल में आता है और भारत सरकार का एक जादुई प्रोडक्ट है .
  • इसके इस्तेमाल एवं यह कहा मिलेगा इसके बारे में पूरी जानकारी.

      इस्तेमाल का तरीका 01

  • तरल रूप में बनाने का तरीका-
  • एक ड्रम में 200 लीटर पानी ले इसमें वेस्ट डीकम्पोजर (Waste Decomposer) की बोतल डाले.
  • 2 किलो गुड घोल कर डाले.
  • इसको अच्छी तरह घोल कर 2-5 दिन के लिए कपड़े से बांधकर रखदे.
  • 2-5 दिन के बाद यह इस्तेमाल करने के लिए तैयार है.

कम्पोस्ट बनाने का तरीका

  • एक पोलीथीन के ऊपर 1000 किलो गोबर की परत बिछाये एवं इसके ऊपर 20 लीटर वेस्ट डीकम्पोजर का बना हुआ घोल छिड़के.
  • इसके बाद दूसरी 1000 किलो गोबर की परत बिछाये एवं 20 लीटर वेस्ट डीकम्पोजर का बना हुआ घोल छिड़के.
  • इस तरह 10 परत तक बिछा सकते है एवं हर परत के ऊपर वेस्ट डीकम्पोजर का बना हुआ घोल छिड़कते जाये.
  • इसको हर सातवे दिन पलटते रहे.
  • एक महीने बाद ये खाद इस्तेमाल करने के लिए पूरी तरह तैयार है.
  • गोबर को एक महीने तक नम/गीला रखे.

    उपयोग करने का तरीका

  • सिंचाई करते समय 200 लीटर पानी में बनाये गए वेस्ट डीकम्पोजर के घोल को एक टंकी/बर्तन में भरकर पानी की मुख्य नाली के ऊपर रख दे.
  • एवं टंकी में छेद करके इस घोल को सिंचाई के पानी के साथ बूंद बूंद करके खेत में जाने दे.
  • 200 लीटर का घोल एक एकड़ के लिए है.

उपयोग करने का तरीका

  • ड्रिप सिंचाई के साथ भी इस्तेमाल कर सकते है.
  • खडी फसल में स्प्रे भी कर सकते है.
  • स्प्रे या सिंचाई के पानी के साथ लगातार उपयोग करना है जब तक आप फसल में सिंचाई 

  करते है.

  • लगभग 4-6 स्प्रे हर 10 दिन के अन्तराल पर करने है.
  • वेस्ट डीकम्पोजर (West Decomposer) की छोटी बोतल आती है केवल 20 रुपये की.
  • इसको केवल एक बार खरीदना है.
  • एक बोतल का इस्तेमाल करके जो 200 लीटर पानी व दो किलो गुड़ के साथ घोल बनाया था उसमे से 20 लीटर वेस्ट डीकम्पोजर का घोल लेकर एक दूसरे ड्रम/बर्तन में 200 लीटर पानी व दो किलो गुड़ (jaggery) लेकर उसमे डाले.
  • 4 दिन बाद दुसरे ड्रम में घोल पुन तैयार हो जायेगा.
  • इसी तरह एक बार घोल तैयार करके उसमे से 20 लीटर घोल लेकर 200 लीटर पानी मिलाते जाये और घोल तैयार करते रहे.

मिलने का स्थान

  • National Centre for Organic Farming
  • राष्ट्रीय जैविक खेती केंद्र
  • गाजियाबाद (उत्तरप्रदेश)
  • फ़ोन नंबर – 0120-2764212
  • 0120-2764901
  • E-mail- nbdc@nic.in
  • Website- ncof.dacnet.nic.in.
  • 09760368535-09990068268
  • कर्नाटक,केरल ,तमिलनाडू ,पोंडिचेरी व लक्षदीप के लिए
  • क्षेत्रीय निदेशक
  • क्षेत्रीय जैविक खेती केंद्र
  • कन्नामंगला क्रॉस, व्हाइट फील्ड –होसेकोते रोड काडूगोडी बेंगलूरू(कर्नाटक).
  • 080-28450503.
  • E-mail-biofkk06@nic.in,
  • rcofbgl@gmail.com.
  • 09999224970
  • उड़ीसा के लिए
  • क्षेत्रीय निदेशक
  • क्षेत्रीय जैविक खेती केंद्र
  • जीए-114 नीलाद्री बिहार के.वी.-4 के पास शैलाश्री विहार भुवेनश्वर (उड़ीसा).
  • 0674-2721281
  • E-mail-biofor04@nic.in.
  • 08628838759
  • हरियाणा, हिमाचल प्रदेश पंजाब व जम्मू एंड कश्मीर के लिए –
  • क्षेत्रीय निदेशक
  • क्षेत्रीय जैविक खेती केंद्र
  • किसान भवन, सेक्टर -14 पंचकुला (हरियाणा).
  • 0172-2564460.
  • E-mail-biofhr05@nic.in.
  • 09818284410
  • आसाम,अरुणाचल प्रदेश ,मेघालय, मिजोरम,मणिपुर,नागालेंड,त्रिपुरा सिक्किम के लिए
  • क्षेत्रीय निदेशक
  • क्षेत्रीय जैविक खेती केंद्र
  • लांगोल रोड लेम्फलपेट इम्फाल (मणिपुर).
  • 0385-2413239
  • E-mail-biofmm01@nic.in.
  • 09402600575

बिहार, पूर्वी उत्तर प्रदेश एवं पश्चिम बंगाल ले लिए
क्षेत्रीय निदेशक
क्षेत्रीय जैविक खेती केंद्र.
आई.सी.ए.आर.-वाल्मी काम्प्लेक्स फुलवारी शरीफ,
जामीपुर रोड पटना (बिहार)

  • मध्यप्रदेश छत्तीसगड, झारखण्ड के लिए
  • क्षेत्रीय निदेशक
  • क्षेत्रीय जैविक खेती केंद्र.
  • 67/1 केशव स्मृति, लक्ष्मीपुर, शताब्दिपुरम, मुस्कान प्लाजा के पीछे, जबलपुर (मध्यप्रदेश).
  • 0761-2904320
  • biofmp06@nic.in
  • 09893562707
  • महाराष्ट्र, गुजरात,आन्ध्रप्रदेश, गोआ, दमन एवं दीव, दादर और नगर हवेली
  • क्षेत्रीय निदेशक
  • क्षेत्रीय जैविक खेती केंद्र.
  • अमरावती रोड, राष्ट्रीय राजमार्ग-6, ग्राम-गोंडखेरी, पोस्ट-वाडी, कलमेश्वर नागपुर (महाराष्ट्र).
  • 07118-297054.
  • E-mail- recofnagpur@gmail.com,
  • biofmh10@nic.in.
  • 07011403122
  • 09463391879
  • इसको बनाना व इस्तेमाल करना बहुत ही आसान है.
  • दिए गए किसी भी सेंटर से आप फ़ोन पर बात कर इसे डी.डी.या पोस्टल आर्डर भेजकर कुरियर से मंगा सकते है.
  • इसे आप कितने भी दिन तक स्टोर कर सकते है.
  • पूरी तरह जैविक एवं भारत सरकार के संस्थान से बनाया है इसलिए पूर्णरूप से प्रमाणित है.
  • कोई भी किसान इसे खरीद सकता है एक या दो बोतल मिल जाएँगी, जिसको किसान भाई घोल बनाकर पुरे गाँव में बाँट सकते है.

 

हरी खाद

Green Manure-

  • अविच्छेदित अर्थात बिना सड़े-गले दलहनी व अदलहनी हरे पौधे या उनके भागों (तना, पत्ती आदि) को जब मृदा की नत्रजन या जीवांश की मात्रा बढाने के लिए खेत में दबाया जाता है, तो इस क्रिया को हरी खाद देना कहते है.
  • एक बार सनई की हरी खाद देने से लगभग प्रति हेक्टर 75 क्विंटल जैव पदार्थ एवं 84 किलोग्राम नत्रजन फसल को मिलता है. सामान्यतया हरी खाद में 0.5 -1% तक नत्रजन, 0.1 -0.2% तक फोस्फोरस तथा 0.8-1% तक पोटाश की मात्रा होती है.
  • फसल का नाम – सनई
  • बुवाई का समय – अप्रैल से जुलाई
  • बीज दर – 80-100 किलोग्राम/हेक्टर
  • हरे पदार्थ की मात्रा – 20-25 टन/हेक्टर
  • नत्रजन – 0.75 %
  • फोस्फोरस – 0.12 %
  • पोटाश – 0.51%
  • फसल का नाम – ड़ेंचा (सेस्बानिया रोसट्रेटा )
  • बुवाई का समय – अप्रैल से जुलाई
  • बीज दर – 80-100 किलोग्राम/हेक्टर
  • हरे पदार्थ की मात्रा – 20-25 टन/हेक्टर
  • नत्रजन – 0.62  %
  • फसल का नाम – लोबिया
  • बुवाई का समय – अप्रैल से जुलाई
  • बीज दर – 40-50  किलोग्राम/हेक्टर
  • हरे पदार्थ की मात्रा – 15-20  टन/हेक्टर
  • नत्रजन – 0.71 %
  • फोस्फोरस – 0.15 %
  • पोटाश – 0.50%
  • फसल का नाम – उड़द
  • बुवाई का समय – जून  से जुलाई
  • बीज दर – 20-22  किलोग्राम/हेक्टर
  • हरे पदार्थ की मात्रा – 10 -12  टन/हेक्टर
  • नत्रजन – 0.85 %
  • फोस्फोरस – 0.18  %
  • पोटाश – 0.53%
  • फसल का नाम – मूंग
  • बुवाई का समय – जून  से जुलाई
  • बीज दर – 20-22  किलोग्राम/हेक्टर
  • हरे पदार्थ की मात्रा – 8-10  टन/हेक्टर
  • नत्रजन – 0.72 %
  • फोस्फोरस – 0.17 %
  • पोटाश – 0.53%
हरी खाद की विशेषताये-
  • जो फसल हरी खाद के रूप में उपयोग कर रहे है वो –
  • फसल कम समय में अधिक वृद्धि करने वाली होनी चाहिए.
  • फसल की जड़ मृदा में अधिक गहराई तक जाती हो.
  • फसल की वानस्पतिक वृद्धि –तने शाखा व पत्तियाँ अधिक लगती हो.
  • फसल के वानस्पतिक अंग मुलायम हो.
  • फसल की जल मांग कम हो.
  • फसल को कम मात्रा में पोषक तत्वों की जरूरत हो.
  • विषम परिस्थितियों में भी हरी खाद वाली फसल अच्छी बडवार करे.
  • फसल में कीड़े व रोग कम लगते हो.
  • भूमि को अधिक मात्रा में जीवांश पदार्थ प्रदान करती हो.
  • फसल का बीज सस्ता होना चाहिए.
  • हरी खाद देने की विधियाँ- 1. सीटू विधि – इस विधि में जिस खेत में हरी खाद उगाई जाती है उसी खेत में उसको दबा दिया जाता है. यह विधि उन क्षेत्रो में अपनायी जाती है जहा बारिश अच्छी होती है.
  • हरी पत्तियो द्धारा- इस विधि में फसल को खेत में उगाते है वो उसको काटकर अन्य दुसरे खेत में दबाते है. यह विधि उन क्षेत्रो में अपनायी जाती है जहा नमी कम होती है.
  • हरी खाद के लिए उपयुक्त फसल-
  • दलहन फसले- मुख्य फसले- सनई , ड़ेंचा .अन्य फसले-मेंथी, मसूर,खेसारी, सेंजी, मटर, बरसीम आदि.
  • अदलहनी फसले- जई, जौ, राई, सरसों शलजम आदि हरी खाद के रूप में उपयोग की जाती है.
  • हरी खाद की पलटाई का समय – जब फसल परिपक्व न हुई हो तथा फसल में फूल निकलना प्रारंभ हो गए हो तब पलटाई की जाती है इस समय फसल मुलायम रहती है खेत में जल्दी सड जाती है.
  • सनई की फसल बुवाई के 50 दिन बाद व ड़ेंचा 45 दिन बाद खेत में पलटने के लिए तैयार हो जाता है.
  • पलटने की विधि- खेत में मिट्टी पलटने वाला हल चलाकर पाटा चलाकर अच्छी तरह दबा देना चाहिए.
  • अगली फसल की बुवाई का समय- हरी खाद को पलटने के 30-40 दिन बाद अगली फसल बोनी चाहिए.
  • हरी खाद के लाभ – मृदा में जैविक पदार्थ व नत्रजन की मात्रा बढाता है.
  • मृदा में पोषक तत्वों का सरक्षण करता है.
  • पौधों को पोषक तत्वों की उपलब्धता में वृद्धि करता है.
  • मृदा सतह का सरंक्षण करता है.
  • खरपतवार का नियंत्रण करता है.
  • लवणीय व क्षारीय भूमियो में सुधार करता है.
  • फसल संरचना व फसल उत्पादन में वृद्धि करता है.
  • लागत कम लगती है.

धन्यवाद- Thanks